भोपाल: भाजपा नेताओं की नहीं संघ की निगरानी में चल रहा है भाजपा का चुनाव अभियान

डे नाईट न्यूज़ 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव का भाजपा का अभियान मध्यप्रदेश में पूरी तरह से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिशा निर्देश में चल रहा है। मध्य क्षेत्र के मुख्यालय समिधा से भाजपा के चुनाव की मॉनिटरिंग हो रही है। इसकी बानगी कल भोपाल में देखने को मिली। यहां पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर दिनभर बैठकों का दौर चला। जबकि संघ से भाजपा में भेजे गए पूर्व प्रचारकों प्रदेश प्रभारी पी. मुरलीधर राव, राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिव प्रकाश, प्रदेश अध्यख विष्णु दत्त शर्मा, क्षेत्रीय संगठन महामंत्री अजय जामवाल और प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद ने चुनाव अभियान को टॉप गियर में डाल दिया है। भाजपा लोकसभा और विधानसभा का चुनाव अभियान समानांतर रूप से चला रही है। लोकसभा की 29 सीटों को पार्टी ने आठ क्लस्टर में विभाजित किया है।

इनकी जवाबदारी केंद्रीय नेताओं के साथ ही प्रदेश में अन्य प्रदेशों के नेताओं की चुनाव अभियान की दृष्टि से आमद होने लगी है। आने वाले कुछ दिनों में एक दर्जन से अधिक केंद्रीय मंत्री प्रदेश के दौरे करने वाले हैँ। भाजपा में इन दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जन कल्याणकारी कार्यों और विकास कार्यों को लेकर घर-घर संपर्क अभियान चलरहा है। यह अभियान 30 जून तक चलेगा। इस अभियान के तहत भाजपा के सभी बड़े और छोटे नेताओं को मतदान केंद्र तक संपर्क करना है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की मशीनरी इन दिनों संघ शिक्षा वर्ग में वयस्त है। संघ में ओटीसी को अत्याधिक महत्व दिया जाता है। 15 जून के बाद देशभर में चल रहे संघ शिक्षा वर्ग समाप्त होंगे। इसके बाद संघ के शीर्ष पदाधिकारियों के लगातार मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में दौरे होने वाले हैं। इनमें सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले, सह सरकार्यवाह अरुण कुमार जैसे शीर्ष पदाधिकारी शामिल होंगे जो प्रदेश में लगातार प्रवास करेंगे।

पार्टी 30 जून तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यों को लेकर मतदान केंद्रों पर सक्रिय रहेगी। मतदान केंद्र प्रबंधन के बारे में भी बैठकें चल रही हैं। प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद ने हाल ही में भोपाल की एक बैठक में विस्तार से मतदान केंद्र प्रबंधन के संबंध में समझाया। उन्होंने कहा कि गुजरात में 80 हजार अर्ध पन्ना समितियां बनाई गई थी। इसी तर्ज पर मध्यप्रदेश में काम हो रहा है यहां अभी तक लगभग 74 फीसदी मतदान केंद्र समितियां मुकम्मल होकर सक्रिय हो चुकी हैं। मुरलीधर राव का सारा जोर सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर एक्टिव रहने पर था। उन्होंने पार्टी के पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को साफ तौर पर कहा कि जितना महत्व मतदान केंद्र प्रबंधन और मैदानी गतिशीलता बढ़ाने का है। उतना ही महत्व सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर एक्टिव रहने का है। मुरलीधर राव ने खासतौर पर विधायकों और मंत्रियों से कहा कि सोशल मीडिया पर उनके फालोअर्स बनना चाहिए, अन्यथा टिकट वितरण के समय माइनस मार्किंग होगी। सूत्रों का कहना है कि भाजपा केसंगठन पुरुषों ने इंदौर में हुई संघ और भाजपा की समन्वय बैठक के निर्णय को लागू करने पर खासतौर पर जोर दिया।

पार्टी प्रधानमंत्री के नौ वर्ष के कार्यकाल की उपलब्धियों को जन जन तक पहुंचाने के लिए प्रदेश स्तर पर लगातार बड़े कार्यक्रम करने जा रही है। सत्ता और संगठन ने संघ की सिफारिश के बाद अनेक बड़े निर्णय लिए हैं। भाजपा संघ की सलाह को कितना महत्व दे रही है यह हाल की नियुक्तियों से भी जाहिर हुआ है। पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने युवा आयोग, सफाई कर्मचारी आयोग, श्रम कल्याण आयोग सहित अनेक नियुक्तियां की हैं, जिनमें उन लोगों को महत्व दिया गया है जिनकी पृष्ठभूमि संघ से आती है। यही नहीं सरकार ने संघ की मंशा अनुरूप अनेक नीतिगत निर्णय भी लिए हैं। इनमें मदरसों की जांच करने का निर्णय भी शामिल है। इसके अलावा शिक्षा और सांस्कृतिक क्षेत्र में अनेक निर्णय संघ की इच्छा अनुसार लिए गए हैं इस संबंध में स्कूली शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव और संसकृति तथा पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर जैसे महत्वपूर्ण मंत्री लगातार संघ के मध्य क्षेत्र के मुख्यालय समिधा जाकर मार्गदर्शन लेते रहते हैं।

मध्य प्रदेश भाजपा का चुनाव अभियान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व प्रचारक मॉनिटर कर रहे हैं जो इस समय भाजपा के बड़े पदाधिकारी हैं। इनमें प्रदेश प्रभारी पी. मुरलीधर राव, राष्ट्रीय संगठन मंत्री शिव प्रकाश, क्षेत्रीय संगठन महामंत्री हितानंद शामिल हैं। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा भी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्णकालिक कार्यकर्ता रहे हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का शीर्ष नेतृत्व भी लगातार मध्यप्रदेश पर अपना फोस बढ़ा रहा है। सरसंक्षचालक डॉ. मोहन भागतव इस वर्ष जनवरी से लेकर अब तक प्रदेश के आठ दौरे कर चुके हैं। उन्होंने मध्य प्रदेश में संघ के तीनों प्रांतों में दौरे किए हैं।

सरसंघचालक ने पिदले दिनों भोपाल और बुरहानपुर का भी पवास किया था। इसके पहले चित्रकूट और रीवा में भी उनके कार्यक्रम हो चुके हैं। सरसंघचालक जुलाई में भी मध्य प्रदेश का दौरा करने वाले हैं। डॉक्टर भागवत के मध्यप्रदेश के लगातार दौरे इस बात को दर्शाने के लिए पर्याप्त हैं कि संघ का नेतृत्व मध्यप्रदेश को बहुत अधिक महत्व देता है। 

Back to top button