इंदौर: मद्दा ने संस्थाओं की 1000 करोड़ की जमीन बेची

डे नाईट न्यूज़ भू-माफिया दिलीप सिसोदिया उर्फ दीपक जैन मद्दा पतर्वन निदेशालय (ईडी) की कस्टडी में है। तीन दिन से जारी पूछताछ में दीपक ने स्वीकारा कि उसने हाउसिंग सोसायटियों की जमीने बेची हैं। जमीनें कम कीमतें बताकर बेची। बेची गई जमीनों की मौजूदा कीमत एक हजार करोड़ से ज्यादा है। गौरतलब है कि दीपक नौ जून तक ईडी की रिमांड पर हैं। ईडी ने पूछताछ में आई चीजें सार्वजनिक की।

बताया कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत दीपक पर केस दर्ज हुआ है। उसेस सहकारी संस्थाओं की जमीनों की अवैध रूप से बिक्री की जांच और पूछताछ के दौरान यह भी सामने आया कि उसकी शहर के कई बिल्डरों से मिलीभगत रही है। जिन्हें उसने विभिन्न गृह निर्माण सहकारी संस्थाओं की जमीनें बेची या जिनके माध्यम से बेची। जब्त दस्तावेजों से यह स्पष्ट है कि मद्दा ने जमीनें 2006 से 2010 के बीच बेची हैं।

इनमें मजदूर पंचायत, देवी अहिल्या श्रमिक कामगार और श्री राम गृह निर्माण की 15 एकड़ जमीन न्याय विभाग कर्मचारी गृह निर्माण और देवी अहिल्या संस्था को देखा देकर कबाड़ी। जिसकी मौजूदा कीमत 326.70 करोड़ है। कविता गृह निर्माण, पाश्र्वनाथ, ऋषभ, जयहिंद, करतार गृह निर्माण संस्थाअें में हुएखेल अलग हैं।

Back to top button