सीतापुर: अधिवक्ता व पेशकार में तू-तू, मैं-मैं, कोर्ट में अधिवक्ताओं ने काटा हंगामा

डे नाईट न्यूज़ एसडीएम कोर्ट में पेशी में वादी के बयान करवाने गए एक अधिवक्ता व पेशकार में यह कहासुनी के बाद अधिवक्ताओं ने कोर्ट में जमकर हंगामा करते हुए पेशकार पर मनमाने व अपने तरीके से कार्य करने व वादकारियों का शोषण किये जाने का आरोप लगाया है। बताते हैं कि अधिवक्ता व पूर्व बार एसोसिएशन अध्यक्ष चित्रकेश सिंह यादव एक मुकदमे को लेकर एसडीएम कोर्ट गए थे। जहां पर उन्होंने पेशकार से बताया कि  वादी पहंुच चुका हूं चूंकि दूसरी कोर्ट में भी एक मुकदमे की सुनवा कुछ समय मांगते हुए वादी के बयान करवाने के बात कही। उसके बाद अधिवक्ता चित्रकेश, नायब तहसीलदार के कोर्ट में अन्य मुकदमे के लिए चले गये।

अधिवक्ता का कहना है कि जब वह तीन बजे के करीब अपने वादी के साथ दोबारा एसडीएम कोर्ट में बयान करवाने गए तो पेशकार योगेश श्रीवास्तव मौजूद नहीं थे और तीन बजे के पहले ही पत्रावली पर लिख दिया था कि पुकार करवाई गई। वादी पक्ष के अनुपस्थित व प्रतिवादी पक्ष अनुपस्थित लिख चुके थे। जिस पर अधिवक्ता चित्रकेश सिंह ने नाराजगी व्यक्त करते हुए  कार्य समय से पूर्व ही पत्रावली पर लिखा जाना उन्होंने अनुचित बताया।

इस दौरान तहसील के दर्जनों अधिवक्ता कोर्ट में पहंुच गए और जमकर हंगामा किया। अधिवक्ता चित्रकेश यादव का कहना है कि तहसील प्रांगण में 6 कोर्ट मौजूद है। एक ही समय में सभी कोर्ट में एक अधिवक्ता उपस्थित नहीं रह सकता। उनका एक मुकदमा नायब तहसीलदार कोर्ट में भी इसके पूर्व वह अपने वादी के उपस्थित होने की जानकारी पेशकार को दे चुके थे। फिर भी उन्होंने पत्रावली पर वादी के अनुपस्थित होने की बात लिखी। उन्होंने पेशकार पर मनमाने और अर्दब में लेकर कार्यकरने वाला पेशकार बताया और कहा उनके व्यवहार व कार्यशैली से अधिवक्ता आहत हैं।

उन्होंने कहा अपने आपको रसूखदार व नेता ऊंची पहंुच वाला पेशकार बताने वाले पेशकार की कार्यशैली की शिकायत वह एसडीएम से करने गए थे। लेकिन एसडीएम कार्यालय में मौजूद नहीं थी। उन्होंने बताया कि अधिवक्ता उनकी शिकायत जिलाधिकारी से करेंगे।

Back to top button