लखनऊ: मंडलायुक्त ने लाटूश रोड,शिवाजी मार्ग,शहनजफ रोड का लिया जायजा

डे नाईट न्यूज़ राजधानी में चल रहे निर्माण कार्यो को गति प्रदान करने के लिए सोमवार को मंडायुक्त डॉ. रोशन जैकब ने विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण किया। जिसमें सबसे पहले मंडलायुक्त ने लाटूश रोड, शिवाजी मार्ग, शाहनजफ रोड पर ड्रेनेज, डक्ट, सड़कों के मरम्मत के कार्य व बिजली के पोल को सड़को से हटाने कार्यो का जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने उपस्थित संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए कहा कि सड़कों के शेष बचे निर्माण कार्य को वर्षा से पूर्व कंप्लीट करा लिया जाए। जिन दुकानों के बेसमेंट में पानी का रिसाव होकर बेसमेंट में एकत्रित हो रहा है उक्त समस्या के समाधान के लिए जल निगम, लोक निर्माण विभाग, नगर निगम संयुक्त रूप से सर्वे कराते हुए तत्काल समस्या से निजात दिलाऐ। उन्होंने कहा कि आगामी सोमवार को पुन: समस्त सड़कों का निरीक्षण किया जाएगा।

निरीक्षण के दौरान पाया गया कि लाटूश रोड, शिवाजी मार्ग पर दुकानों के सामने कूड़ेदान ना होने पर मंडलायुक्त ने नगर निगम के अधिकारीयो को कूड़े दान लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि दुकानों के सामने कूड़ेदान लगे होने के बावजूद अगर इधर-उधर कूड़ा फेंका जाता है तो संबंधित दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिये। मंडलायुक्त ने लाटूश रोड पर समस्त बिजली के पोलो को अभी तक शिफ्ट ना किए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए संबंधित अधिकारियो को निर्देश दिये कि तत्काल शेष विद्युत के पोलो को शिफ्ट करा दिया जाये। संबंधित अधिकारी द्वारा बताया गया कि लाटूश रोड पर 40 पोलो में से 30 पोलो को हटा दिया गया है।

इसके साथ ही शिवाजी मार्ग पर 35 पोलो में से 26 पोलो को हटा दिया गया है शेष पोलो को 3 दिन के अंदर शिफ्ट कर दिया जाएगा। निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त ने कहा कि यूटिलिटी के नाम पर जो भी कार्य किये जाने है वह सड़क निर्माण से पूर्व उसको तत्काल कराले अन्यथा सड़क निर्माण के बाद अगर सड़क की खुदाई,कटिंग की जाती है तो संबंधित विभाग पर जुमार्ना लगाया जायेगा। शाहजनफ रोड के निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि चेंबर के निमार्णाधीन कार्य में तेजी लाएं। उन्होंने कहा कि आॅफिस के कमरे में बैठकर कार्य न करे, सड़क पर उतर कर संबंधित अधिकारी कार्य संपादित कराये। उन्होंने कहा कि शहर आपका है उसके दृष्टिगत समस्त निमार्णाधीन कार्य गंभीरता पूर्वक कराया जाए।

उसमें गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें और अगर सड़क कहीं धसती है या पानी लीकेज की समस्या आती है तो नगर निगम के संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मंडलायुक्त की कार्यशैली से सबंधित विभाग के अधिकारियों की नींद खुलना शुरू हो गयी है। इससे व्यवस्थाओं में सुधार होने के आसार दिखाई देने लगे हैं।

Back to top button