रविवार को महाकाल लोक देखने उमड़े लोग, भीड़ ने तोड़ा रिकॉर्ड, उज्जैन मार्ग पर लगा लंबा जाम

डे नाईट न्यूज़ महाकाल लोक में आने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। रविवार को अवकाश होने के कारण उज्जैन में दर्शन करने बड़ी संख्या में लोग पहुंचे,जिसके चलते इंदौर-सांवेर रोड पर ट्रैफिक जाम के हालात बन गए। त्रिवेणी पुल से लेकर महाकाल गेट तक दिनभर वाहनों की कतारें लगती रही। इसके अलावा सांवेर औरर धरमपुरी वाले हिस्से में भी यातायात बार-बार बाधित होता रहा, क्योंकि यहां पेचवर्क के कारण सड़क के एक तरफ का हिस्सा बंद कर दिया गया। रविवार को उज्जैन में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। महाकाल लोक से पहले उज्जैन शहर में एंट्री के लिए भी लोगों को जद्दोजहद करना पड़ रही है,क्योंकि बड़ी संख्या में वाहन आने के कारण उज्जैन की यातायात व्यवस्था गड़बड़ा गई है। लोगों को वाहन पार्क करने के लिए जगह नहीं मिल रही है। गलियों में भी वाहन गुत्थम-गुत्था हो रहे हैं। प्रदेश के दूसरे शहरों के पर्यटकों के अलावा उज्जैन के आसपास के नगरों और ग्रामीण इलाकों से भी बड़ी संख्या में लोग रोज उज्जैन पहुंच रहे हैं। उधर मप्र सड़क विकास निगम ने इंदौर-उज्जैन मार्ग की मरम्मत का काम शुरू कर दिया है। इस कारण कई जगह एक लेन में ट्रैफिक चल रहा है। यह भी ट्रैफिक जाम की एक बड़ी वजह है। महाकाल लोक को देखने के लिए बड़ी संख्या में आने वाले पर्यटक इंदौर में भी रुकते हैं। इन दिनों सर्राफा, 56 दुकान में ज्यादा भीड़ नजर आने लगी है। इसके अलावा होटलों को भी अच्छी बुकिंग मिल रही है। इंदौर होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सूरी के अनुसार अगले तीन महीनों तक इंदौर में होटलों को अच्छी बुकिंग मिल चुकी है। ज्यादातर लोग उज्जैन और ओंकारेश्वर जाने के लिए इंदौर रुकने की प्लानिंग करते हैं।

 महाकाल लोक में इन कमियों को करना होगा दूर

  • महाकाल मंदिर तक जाने के लिए श्रद्धालुओं को डेढ़ किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ रहा है। वरिष्ठ नागरिकों और बच्चों को काफी परेशानी हो रही है।
  •  जूता-चप्पल स्टैंड काफी दूर है। मंदिर तक तेज धूप में जाने से पैरों के पंजों में छाले होने की शिकायतें भी लोग कर रहे हैं।
  • पेयजल व्यवस्था कम है। ज्यादा भीड़ होने पर पीने का पानी नहीं मिलता है।
  • महाकाल लोक में हरियाली काफी कम है। धूप से बचने के लिए कोई शेड भी नहीं है। ऐसे में ज्यादातर लोग रात को महाकाल लोक जाना पसंद कर रहे हैं।
Back to top button