बिहार के सिवान में अपराधियों ने पुलिस टीम पर की फायरिंग, एक जवान की मौत, ग्रामीण भी घायल

बिहार में शराबबंदी के बावजूद रोज शराब माफिया पकड़े जाते हैं. कानून से बेखौफ शराब माफिया धड़ल्ले से शराब तस्करी का काम करते हैं। अगर खलल डालने की कोशिश पुलिस टीम करती है। तो उसपर भी माफिया गोली चलाने से भी पीछे नहीं रहते हैं. ऐसा ही मामला सिवान से सामने आया है.
बिहार के सीवान में अपराधियों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी। फायरिंग में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि पुलिस की टीम सूचना मिलने के बाद शराब के ठेके पर छापा मारने गई थी। पुलिस टीम जब वापस लौट रही थी तो कुछ अपराधियों ने टीम पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं।

सिवान जिले के सिसवन थाना क्षेत्र के ग्यासपुर गांव में मंगलवार की देर रात करीब दो बजे छापेमारी करने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने फायरिंग कर दी। इस दौरान गोली लगने से एक जवान की मौत हो गई। एक स्‍थानीय व्‍यक्ति को भी गोली लग गई। घटना के बाद अफरातफरी मच गई। घायल का इलाज सदर अस्‍पताल में चल रहा है। मृतक जवान का नाम बाल्‍मिकी यादव जबकि जख्‍मी ग्रामीण का नाम सेराजुद्दीन खान है। गौरतलब है कि बिहार के कुख्‍यात खान ब्रदर्स अयूब खान एवं रईस खान ग्‍यासपुर गांव के ही रहने वाले हैं। अयूब खान फिलहाल जेल में बंद है जबकि रईस खान अभी बाहर हैं।

क्या था पूरा मामला

सिसवन थाना प्रभारी ने बताया कि गश्ती पार्टी निकली हुई थी. उनकी गाड़ी जैसे ही ग्यासपुर के समीप पहुंची तो तीन-चार की संख्या में सड़क के किनारे खाट पर बैठे संदिग्ध लोगों पर पुलिस की नजर पड़ी. इसके बाद पुलिस की गश्ती पार्टी वहां पर रुककर उनसे पूछताछ करना चाहा तो अपराधी वहां से भागने लगे. इसके बाद शंका के आधार पर पुलिस ने उनका पीछा करना शुरू किया तो अपराधियों ने पुलिस टीम पर अंधाधुन फायरिंग शुरू कर दी. इस दौरान अपराधियों की गोली सिपाही बाल्मीकि यादव की पेट और सीने में लगी. इसके बाद वह वहीं पर गिर गया. वही गोली की आवाज सुनकर सिराजुद्दीन खान अपनी खिड़की से देखने लगा. तभी तक अपराधी की एक गोली अधेड़ को भी लग गई. आनन-फानन में दोनों को सिवान सदर अस्पताल लाया गया, जहां सिपाही को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया. घायल का वहीं इलाज चल रहा है.

Back to top button