फटाफट लोन के चक्कर में फंसकर चुकाए 18 लाख…

डे नाईट न्यूज़ । चुटकियों में लोन के चक्कर में फंसकर एक युवक ने अपने मोबाइल पर विभिन्न एप डाउनलोड कर लिए। उनसे 1.66 लाख रुपये का लोन ले लिया। इसके बदले में अब तक वह 18 लाख रुपये भर चुका है। इसके बावजूद उसे जान से मारने की धमकी मिल रही है। उसके अश्लील फोटो इंटरनेट मीडियो पर डाले जा रहे हैं। रिश्तेदारों व दोस्तों को भी गालियां दी जा रही हैं। साइबर थाना पुलिस ने पीड़ित युवक की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

नंगला एन्क्लेव निवासी युवक ने पुलिस को बताया कि करीब पांच महीने पहले उसे रुपयों की जरूरत थी। उसे पता चला कि मोबाइल एप से बिना कोई कागजी कार्रवाई चुटकियों में लोन मिल जाता है। उसे मोबाइल के प्ले स्टोर से लेंड किग, मनी मास्टर, नेब लेंड, चेरी लेंड, भारत कैश, एटीओ लेंड, लेंड फास्ट, कैश स्टेशन, क्रेडिट मास्टर, रुफिलो नाम के 10 एप डाउनलोड कर लिए। इन एप से उसने 1.66 लाख रुपये लोन ले लिया। आरोप है कि इन एप की तरफ से उसे अलग-अलग नंबरों से धमकियां मिलनी शुरू हो गईं। उसे जान से मारने की धमकी दी जाती। साथ ही उसके फोटो मार्फ करके अश्लील बनाकर उसके रिश्तेदारों को भेजने शुरू कर दिए। रिश्तेदारों व दोस्तों को भी गालियां देनी शुरू कर दीं। अब तक वह करीब 18 लाख रुपये इन एप को वापस कर चुका है, मगर अभी भी उसके पास धमकियां आ रही हैं। उसके फोटो अश्लील बनाकर लोगों को भेजे जा रहे हैं। साइबर थाना प्रभारी बसंत कुमार का कहना है कि मुकदमा दर्ज कर लिया है। मामले की जांच की जा रही है। आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

साइबर थाना पुलिस के मुताबिक देशभर में लोन दिलाने वाली एप आधारित करीब 700 कंपनियां चल रही हैं। ये एनबीएफसी (नान बैंकिग फाइनेंस कंपनी) के तहत पंजीकृत भी हैं। कोरोना महामारी के दौरान लोग आर्थिक रूप से कमजोर हुए हैं। ये कंपनियां लोन के रूप में छोटी राशि 10-20 हजार रुपये आफर करती हैं। ज्यादातर निम्न वर्ग के लोग इनके जाल में फंसते हैं। लोन देने की प्रक्रिया के दौरान कंपनियों व्यक्ति से फोन में व्यक्तिगत जानकारी तक पहुंचने की अनुमति मांगती हैं। जानकारी के अभाव में लोग अनुमति दे देते हैं। कंपनियों के पास व्यक्ति के बैंक खातों से लेकर संपर्कों की जानकारी भी पहुंच जाती है। ब्याज दर अधिक होने के कारण व्यक्ति फंसता जाता है। इसके बाद लोन रिकवरी के लिए कंपनियों के काल सेंटर व्यक्ति को गाली-गलौज व धमकियां देना शुरू कर देते हैं। व्यक्ति के संपर्कों के लोगों को भी काल करके गाली-गलौज व धमकाया जाना शुरू हो जाता है। जिले में इस तरह की कई शिकायतें आ चुकी हैं। तुरंत लोन देने वाले एप से सावधान रहें। ये केवाईसी या दस्तावेज के नाम पर आपकी जानकारियां हासिल कर लेती हैं। बाद में इनका दुरुपयोग करती हैं। लोग अधिकृत बैंक से ही लोन लें तो बेहतर होगा।

Back to top button