पुतिन एक संस्कृति को नष्ट करने में जुटा कौन…

डे नाईट न्यूज़ । संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मंगलवार को क्वाड नेताओं के शिखर सम्मलेन के उद्घाटन के अवसर पर रुस की जमकर आलोचना करते हुये कहा कि रूस -यूक्रेन युद्ध केवल यूरोपीय मुद्दा नहीं है, बल्कि यह वैश्विक मुद्दा है। रूस स्कूलों और संग्रहालयों पर हमला करके एक संस्कृति को नष्ट करने का प्रयास कर रहा है।
उन्होंने कहा कि यह केवल यूरोपीय मुद्दे से कहीं अधिक है और यह एक वैश्विक मुद्दा है। उन्होंने कहा कि जब आप टेलीविजन चालू करते हैं और देखते हैं कि रूस अब वहां क्या कर रहा है तो मुझे ऐसा प्रतीत होता है कि श्री पुतिन एक संस्कृति को नष्ट करने कोशिश कर रहे हैं। वह केवल सैन्य प्रतिष्ठानों पर हमला नहीं कर रहा बल्कि वह स्कूलों, सांस्कृतिक केन्द्रों और ऐतिहासिक संग्रहालयों पर हमला कर रहा है। उन्होंने यूक्रेन पर रुसी आक्रमण को हमारे साझा इतिहास का काला अध्याय बताया।
श्री बाइडेन ने कहा कि हम अपने समय के सबसे काले कालखंड में है, यूक्रेन के खिलाफ रूस के क्रूर और अकारण युद्ध ने मानवीय तबाही मचाई है और निर्दोष नागरिकों को सड़कों पर आने को मजबूर कर दिया गया है। लाखों लोग अपने ही देश में शरणार्थी का जीवन जीने को लाचार हो गये है।
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि जब तक रूस इस युद्ध को लम्बा खींचता है तब तक हम इसके भागीदार बने रहेंगे और वैश्विक प्रतिक्रिया का नेतृत्व करेंगे।
उन्होंने कोविड-19 के जवाब में क्वाड के महत्व और 5जी आपूर्ति श्रृंखलाओं पर साझेदारी की चर्चा की। उन्होंने क्वाड फेलोशिप कार्यक्रम भी शुरू किया। हालांकि, उनका अधिकांश भाषण यूक्रेन पर ही केन्द्रित रहा।
श्री बिडेन ने कहा कि सम्मेलन में हिस्सा ले रहे नेता दुनिया में इस परिवर्तनकारी काल में इकट्ठा हो रहे हैं – हम एक परिवर्तनकारी काल से गुजर रहे हैं।
उन्होंने शिखर सम्मेलन की मेजबानी के लिए जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा को धन्यवाद दिया और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को व्यक्तिगत रूप से देखकर अच्छा लगा। उन्होंने लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा को सुनिश्चित करने के लिए उनकी निरंतर प्रतिबद्धता के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।
उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के नव निर्वाचित प्रधानमंत्री एंथनी अल्बानीज़ के साथ मजाक में कहा, यदि आप यहां रहते हुए सो जाते हैं तो ठीक है, यह देखते हुए कि वह अभी-अभी चुने गए हैं। सम्मेलन में राष्ट्रपति के साथ विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन, यूएसटीआर राजदूत कैथरीन ताई, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन और राजदूत कर्ट कैंपबेल शामिल हुए हैं।
इससे पूर्व जापानी प्रधानमंत्री किशिदा ने सम्मेलन में आये मेहमानों का स्वागत किया। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के नये प्रधानमंत्री अल्बनीज़ को उनके चुनाव के तुरंत बाद बैठक में आने के लिए धन्यवाद दिया और बैठक की विधिवत शुरुआत की।
श्री किशिदा ने कहा कि एक स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक के लिए दृढ़ प्रतिबद्धता बनाने के लिए इन नेताओं का एक साथ आना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा उन्होंने जलवायु परिवर्तन रोकथाम के उपायों, समुद्री मुद्दे और प्रौद्योगिकी सहित कई मुद्दों को उठाया।
इस दौरान ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री अल्बानीज़ ने कहा कि यह एक सम्मान की बात है कि प्रधानमंत्री के रूप में उनका पहला कार्य क्वाड बैठक में भाग लेना था। उन्होंने कहा कि हम क्वाड के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया जलवायु परिवर्तन पर महत्वाकांक्षी कार्रवाई करेगा जिसमें 2030 तक उत्सर्जन को 43 प्रतिशत तक कम करने का एक नया लक्ष्य शामिल है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तब अल्बानीज़ को उनकी जीत पर बधाई दी और कोविड -19 और अन्य मुद्दों पर भारत में किये गये कामों के बारे में बताया, साथ ही उन्होंने क्वाड के काम की प्रशंसा की। श्री मोदी ने ने कहा कि यह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति, समृद्धि और स्थिरता सुनिश्चित कर रहा है।

Back to top button