किस टीम का विरोध करने वाले किसानों पर केस दर्ज…

डे नाईट न्यूज़ । मधुबन आवासीय योजना में जमीन को कब्जामुक्त कराने गई जीडीए की टीम काम विरोध करने वाले किसानों के खिलाफ जीडीए के एक्सईएन ने दो एफआईआर दर्ज कराई हैं। एक्सईएन का कहना है कि 17 और 21 मई को जीडीए की टीम कब्जा मुक्त कराने गई थी। दोनों बार किसानों ने टीम से अभद्रता करते हुए हंगामा किया और सरकारी कार्य में बाधा डाली। शिकायत के आधार पर मधुबन बापूधाम पुलिस ने दोनों मुकदमों में पांच-पांच किसानों को नामजद किया है।

जीडीए जोन-तीन के एक्सईएन आलोक रंजन ने पहली एफआईआर में कहा है कि 17 मई को मधुबन बापूधाम आवासीय योजना में किसानों से भूमि को कब्जा मुक्त कराने की कार्रवाई की गई थी। इस दौरान गांव मैनापुर निवासी राम सिंह, राजकुमार, मुकेश, सतवीर व पवन गौतम ने जीडीए के कर्मचारियों के साथ अभद्र व्यवहार किया तथा निर्माण एजेंसी को कार्य करने से रोका गया। इस दौरान आरोपियों ने जीडीए कर्मचारियों के साथ धक्का-मुक्की भी की। वहीं, दूसरी एफआईआर में एक्सईएन आलोक रंजन का कहना है कि 17 मई के बाद जीडीए की टीम 21 मई को फिर से मधुबन बापूधाम आवासीय योजना में किसानों से भूमि को कब्जा मुक्त कराने के लिए गई थी। वहां पर गांव सदरपुर निवासी टिक्कू पंडित, गौरी शंकर, बोस चौधरी, जसवीर चौधरी व तेजवीर आ धमके और जीडीए की टीम से अभद्रता करते हुए निर्माण एजेंसी को कार्य करने से रोक दिया। एक्सईएन का कहना है कि आरोपियों ने टीम का विरोध करके सरकारी कार्य में बाधा डाली।

कविनगर सीओ अवनीश कुमार ने बताया कि जीडीए जोन-तीन के एक्सईएन की तहरीर पर दो मधुबन बापूधाम थाने में दो एफआईआर दर्ज की गई हैं। दोनों एफआईआर में पांच-पांच लोगों को नामजद किया गया है। मुकदमे में सरकारी कार्य में अवरोध पैदा करने तथा बलवे की धाराएं लगाई गई हैं। जांच कर आगामी कार्रवाई की जाएगी।

Back to top button