राज्यसभा चुनाव के लिए खरीद-फरोख्त का आरोप लगा…

डे नाईट न्यूज़ । राज्यसभा के लिए अपने दो उम्मीदवारों को निर्वाचित कराने के प्रयास में जुटी शिवसेना ने बुधवार को आरोप लगाया कि उसके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी आगामी चुनावों में महाराष्ट्र से संसद के उच्च सदन की छठी सीट को लेकर खरीद-फरोख्त का सहारा ले रहे हैं।

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास आघाड़ी (एमवीए) के पास छठी सीट जीतने के लिए संख्या है। एमवीए में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस शामिल हैं।

राउत ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘विपक्ष की ईर्ष्या को विपक्ष द्वारा छठी राज्यसभा सीट के लिए खरीद-फरोख्त की कोशिशों से देखा जा सकता है। भ्रष्टाचार का पैसा और उसके जरिए हो रही खरीद-फरोख्त…यह दुष्चक्र कब रुकेगा।’’

राउत ने कहा, ‘‘शिवसेना छठी सीट पर चुनाव लड़ेगी। कोई कुछ भी करे, महा विकास आघाड़ी के पास संख्या है। हम लड़ेंगे और जीतेंगे।’’

एक दिन पहले शिवसेना नेता और महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब ने कहा कि उनकी पार्टी राज्यसभा चुनाव में दूसरा उम्मीदवार उतारेगी और विश्वास जताया कि शिवसेना का दूसरा उम्मीदवार निर्वाचित होगा।

महाराष्ट्र से राज्यसभा के छह सदस्यों – पीयूष गोयल, विनय सहस्त्रबुद्धे और विकास महात्मे (तीनों भारतीय जनता पार्टी से), पी चिदंबरम (कांग्रेस), प्रफुल्ल पटेल (राकांपा) और संजय राउत (शिवसेना) का कार्यकाल चार जुलाई को समाप्त हो रहा है। चारों दलों ने अभी तक अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है।

भाजपा के पास जितने विधायक हैं उतने से वह राज्यसभा की दो सीटें जीत सकती हैं, जबकि शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा एक-एक सीट जीत सकती हैं। इसलिए मुकाबला छठी सीट के लिए होगा।

शिवसेना का रुख कोल्हापुर के पूर्व शाही परिवार के सदस्य और छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज, छत्रपति संभाजीराजे की संभावनाओं को बाधित कर सकता है जो पूर्व में राज्यसभा के राष्ट्रपति-नामित सदस्य थे।

संभाजीराजे ने हाल ही में घोषणा की कि वह निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में राज्यसभा का अगला चुनाव लड़ेंगे और सभी दलों से उनका समर्थन करने की अपील की। संभाजीराजे पूर्व में भाजपा से जुड़े थे।

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने संकेत दिया है कि उनकी पार्टी संभाजीराजे की उम्मीदवारी का समर्थन कर सकती है, लेकिन अगर उन्हें एमवीए के दो अन्य घटक के वोट नहीं मिलते हैं, तो उनका चुनाव मुश्किल हो सकता है। राज्यसभा चुनाव की अधिसूचना 24 मई को जारी की जाएगी। पूरी प्रक्रिया 13 जून को पूरी हो जाएगी।

Back to top button