विवाद में दो पक्षों के चलते जमीन का फिर से होगा सीमांकन…

डे नाईट न्यूज़ । महालक्ष्मी नगर और तुलसी नगर के कालोनाइजरों के बीच जमीन विवाद में नया मोड़ आया है। परेशान भूखंडधारकों की मांग पर नायब तहसीलदार ने विवादित जमीन का दोबारा सीमांकन कराने का निर्णय किया है। शनिवार को जमीन का फिर से सीमांकन कराया जाएगा। सीमांकन के दौरान दोनों पक्षों के अलावा इस जमीन पर काबिज भूखंडधारक और मकान मालिक मौजूद रहेंगे।

दरअसल, महालक्ष्मी नगर और तुलसी नगर कालोनियां पास-पास हैं। महालक्ष्मी नगर के कालोनाइजर की शिकायत के बाद प्रशासन की जांच में सामने आया है कि तुलसी नगर के कालोनाइजर ने 48 लोगों को महालक्ष्मी नगर की जमीन पर भूखंडों की रजिस्ट्री कर दी। इसमें कुछ लोगों ने मकान बना लिए हैं तो कुछ प्लाट खाली हैं। इस मामले में नायब तहसीलदार ने भूखंडधारकों को नोटिस जारी किए हैं। मामले की सुनवाई नायब तहसीलदार के न्यायालय में चल रही है। दोनों कालोनाइजर के जमीन विवाद में 48 भूखंडधारकों और रहवासियों के लिए संकट खड़ा हो गया है।

भूखंडधारकों का कहना है कि हमने तो तुलसी नगर के कालोनाइजर से 25 साल पहले प्लाट खरीदे थे। हमने पूरा पैसा चुकाकर प्लाट की रजिस्ट्री कराई। यदि गलत सर्वे नंबर पर रजिस्ट्री कराई है तो यह कालोनाइजर की गलती है। इसमें हमारा क्या दोष? महालक्ष्मी नगर के कालोनाइजर भी इतने सालों बाद जाग रहे हैं कि यह जमीन उनकी है। कई भूखंडों पर भूखंडधारक मकान बनाकर रहने भी लगे हैं। ऐसी स्थिति में प्रशासन भी हमें कैसे हटा सकता है। उल्लेखनीय है कि मामले की सुनवाई दो बार हो चुकी है।

प्रभावित भूखंडधारकों और रहवासियों की ओर से नायब तहसीलदार को जवाब भी दिए जा चुके हैं। प्रभावित लोगों ने जनप्रतिनिधियों के समक्ष में अपनी समस्या रखी है। दूसरी तरफ महालक्ष्मी नगर के कालोनाइजर इस जमीन पर नक्शा भी पास करा चुके हैं। अब वे अपनी जमीन खाली करवाना चाहते हैं।

Back to top button