उत्‍तीर्ण, विद्यार्थी यहां देख सकते हैं अपना रिजल्‍ट…

डे नाईट न्यूज़ । प्रदेश में माध्‍यमिक शिक्षा मंडल से संबद्ध सरकारी व निजी स्कूलों के पांचवीं व आठवीं कक्षा के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए गए। मप्र स्कूल शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरूण शमी ने दोपहर तीन बजे राज्य शिक्षा केंद्र के सभाकक्ष में सिंगल क्लिक के माध्यम से परीक्षा परिणाम घोषित किया। दोनों कक्षाओं में करीब 15 लाख 83 हजार विद्यार्थी शामिल थे। इसमें बालिकाओं के पास होने का प्रतिशत 51.573 और बालकों का। 48.43 प्रतिशत है। पांचवीं का रिजल्ट 92.2 फीसद रहा। वहीं आठवीं में 89 फीसद बच्चों ने सफलता पाई है। पांचवी और आठवीं में जबलपुर संभाग का बेहतर रिजल्ट आया है। नरसिंहपुर जिले का सबसे बेहतर रिजल्ट 95.68 फीसद रहा। बता दें कि इस बार उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन स्कूलों में ना कराकर संकुल केंद्रों पर कराया गया था। इस अवसर पर प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी ने कहा कि पांचवी और आठवीं के परिणाम में ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। शहरी क्षेत्रों के स्कूलों का प्रदर्शन कम है। फेल हुए विद्यार्थियों के लिए जुलाई में परीक्षा होगी। राज्य शिक्षा केंद्र के संचालक धनराजू एस ने कहा कि 12 साल बाद बोर्ड की तर्ज पर परीक्षा आयोजित की गई। बच्चों का परिणाम अच्छा रहा। गर्मी की छुट्टी के बाद अनुत्‍तीर्ण विद्यार्थियों की परीक्षा कराई जाएगी। राज्‍य शिक्षा केंद्र के संचालक धनराजू एस ने बताया कि बच्‍चे अपना परिणाम राज्‍य शिक्षा केंद्र पोर्टल की पब्लिक लिंक पर अपना समग्र आईडी डालकर देख सकते हैं। साथ ही शिक्षकगण अपनी कक्षा का विद्यार्थीवार एवं प्रभारी शिक्षक/हेडमास्‍टर अपने स्‍कूलों का विद्यार्थीवार और कक्षावार परिणाम भी राज्‍य शिक्षा केंद्र के पोर्टल पर अपने लाग-इन आइडी के माध्‍यम से देख सकते हैं। बता दें, कि 30 अप्रैल तक दोनों कक्षाओं का रिजल्ट घोषित करने की तारीख तय की गई थी, लेकिन राज्य शिक्षा केंद्र इस लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाया। इस बार परीक्षा में 60 अंक का लिखित पेपर और 40 अंक प्रोजेक्ट बेस्ड लिया गया। साथ ही शिक्षा का अधिकार कानून में किए गए संशेाधन के आधार पर इस वर्ष से वार्षिक मूल्‍यांकन के आधार पर अगली कक्षा में कक्षोन्‍नति, पूरक परीक्षा और अनुर्तीण होने पर उसी कक्षा में रोके जाने के प्रविधान भी किए गए हैं।

दो माह बाद होगी अनुत्‍तीर्ण विद्यार्थियों की परीक्षा : अनुत्तीर्ण विद्यार्थियों के लिए दो माह बाद पुन: परीक्षा ली जाएगी। फेल विद्यार्थियों को दो माह तक तैयारी कराई जाएगी। इसके बाद परीक्षा ली जाएगी। अब स्कूल बंद हो गए हैं, तो फेल हुए विद्यार्थियों की तैयारी कैसे हो पाएगी, जबकि 15 जून से स्कूल खुलेंगे। अब ऐसे में कैसे तैयारी हो पाएगी।

Back to top button