विवाहेत्तर संबंध बनाने, ब्लैकमेल करने का मामला…

डे नाईट न्यूज़ । फेसबुक पर दोस्ती के बाद विवाहेत्तर संबंध और महिला को उसके अश्लील वीडियो क्लिप से ब्लैकमेल करने के प्रयास के कारण हैदराबाद में 32 वर्षीय शख्स की हत्या कर दी गई। हमले के एक सप्ताह से अधिक समय बाद, पीड़ित पर महिला के एक अन्य फेसबुक मित्र और उसके सहयोगी द्वारा हमले का सीसीटीवी फुटेज शुक्रवार को सामने आया। एम. श्वेता रेड्डी (32) को उसके प्रेमी एम. यश्मा कुमार की हत्या के आरोप में पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। के. अशोक (28) और उनके सहयोगी के कार्तिक (30) को भी गिरफ्तार किया गया है। दोनों आंध्र प्रदेश के निवासी हैं।

सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि कैसे अपने दोपहिया वाहन पर सवार पीड़ित पर 4 मई की रात को राचकोंडा पुलिस आयुक्तालय के मीरपेट थाना अंतर्गत प्रशांति हिल्स में श्वेता रेड्डी के घर के पास हथौड़े से हमला किया गया था। कुमार जमीन पर गिर गया और कुछ राहगीरों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया, जहां दो दिन बाद उसने दम तोड़ दिया। पुलिस ने शुरू में इसे सड़क दुर्घटना का मामला माना। हालांकि, पोस्टमार्टम रिपोर्ट और कुछ विस्तृत जांच के बाद चौंकाने वाले विवरण सामने आए। एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पत्नी श्वेता रेड्डी की 2018 में शहर के बाग अंबरपेट इलाके के रहने वाले फोटोग्राफर और कुमार के साथ दोस्ती हो गई थी। जल्द ही, उनका रिश्ता अंतरंग हो गया।

पुलिस जांच में पता चला कि एक वीडियो कॉल के दौरान कुमार ने उसे कपड़े उतारने के लिए कहा और जब उसने इसका पालन किया तो उसने इसे रिकॉर्ड कर लिया। इसके बाद उसने वीडियो क्लिप को उसके परिवार के सदस्यों के साथ साझा करने की धमकी देना शुरू कर दिया, और शादी करने के लिए मजबूर करने लगा। कुमार महिला को ब्लैकमेल करने के लिए बाइक से उसके घर के आस पास घूम रहा था। उसकी धमकियों से घबराकर श्वेता रेड्डी ने विजयवाड़ा निवासी अपने एक अन्य फेसबुक मित्र अशोक से संपर्क किया। अशोक अपने सहयोगी कार्तिक के साथ हैदराबाद आया और तीनों ने कुमार को खत्म करने की साजिश रची।

योजना के मुताबिक महिला ने 4 मई को कुमार को अपने घर बुलाया, जब वह घर के पास पहुंचा तो घात लगाकर बैठे अशोक और कार्तिक ने उस पर हमला कर दिया। उनके सिर पर हथौड़े से वार किए। वह बेहोश हो गया और कोमा में चला गया। पुलिस ने कुमार के कॉल डेटा का विश्लेषण कर हत्या की गुत्थी सुलझाई। चूंकि उसके मोबाइल पर आखिरी कॉल श्वेता रेड्डी ने की थी, इसलिए उन्होंने उससे पूछताछ की और उसने आखिरकार अपना अपराध कबूल कर लिया। उसने पुलिस को यह भी बताया कि कुमार को फोन करने के बाद, उसने अपना मन बदल लिया था और अशोक और कार्तिक को उसे छोड़ने के लिए एक संदेश भेजा था। लेकिन तब तक वे साजिश को अंजाम दे चुके थे।

Back to top button