बीएसए महाविद्यालय की काया पलटी…

डे नाईट न्यूज़ । मैनेजमेंट के चुंगल से मुक्त होने के बाद जनपद का प्रतिष्ठित बीएसए कॉलेज उत्तरोत्तर प्रगति की राह पर चल पड़ा है। इसके लिए नवागत प्राचार्य डॉ. ललित शर्मा रात दिन मेहनत कर जहां छात्र-छात्राओं का भविष्य संवारने में लगे है वही कॉलेज की प्रशासनिक क्षमता के साथ इन्फास्ट्रक्चर को मजबूती देकर नये आयाम स्थापित कर रहे है।
करीब 6 माह पूर्व बीएसए कॉलेज के प्राचार्य नियुक्त हुए डॉ. ललित शर्मा ने अमूल-चूल परिवर्तन किये है। 66 वर्ष के कॉलेज के इतिहास में छात्र-छात्राओं को रोजगार प्रदान कराने के लिये प्लेसमेंट की कोई व्यवस्था नहीं थी अब यह पहली बार हुआ है राज्य के किसी वित्तपोषित महाविद्यालय में 61 छात्र-छात्राओं में से 55 को विभिन्न संस्थानों में नौकरी मिली है।
प्राचार्य डॉ. ललित शर्मा के अनुसार कॉलेज में व्यवस्थित शिक्षण कार्य के संचालन और भव्यता की दिशा में अनेक कदम उठाये जा रहे है। कॉलेज को अब दो भागों में विभाजित किया जा रहा है, एकैडमिक वर्ग में केवल छात्र-छात्राओं और प्रोफेसर स्टाफ को प्रवेश मिलेगा वहीं प्रशासनिक वर्ग में ऑफिस आदि के कार्य होंगे। एक जनवरी से कॉलेज प्रांगण में पान-गुटखा, तम्बाकू का सेवन करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, पहले कॉलेज की दीवार और अन्य स्थानों पर पीक के निशान दिखते थे वो अब नहीं दिखाई देते। सभी दीवारों पर पेटिंग करा दी गई है। पूर्व के मुकाबले इस बार कॉलेज में दाखिला प्रक्रिया में किसी की भी दबंगई नहीं चल पाई। विद्यार्थियों को अब ड्रेस कोड, आईडी कार्ड के साथ ही कॉलेज में प्रवेश की व्यवस्था की गई है। उनके स्मार्ट मोबाईल फोन लाने के लिये मना कर दिया गया है वह केवल की-पेड वाला फोन ही इस्तेमाल कर सकेंगे।
अनौपचारिक बातचीत में प्राचार्य डॉ. शर्मा ने बताया कि समय पर परीक्षा परिणाम, फीस जमा करने की व्यवस्था को प्रभावी बनाया गया है। कॉलेज में महापुरूषों की जयंती पर नियमित आयोजन कराये जा रहे है। 32 क्लास रूम में नये सफेद मार्कर वाले बोर्ड लगाये गये है। 4 कक्षाओं को स्मार्ट रूम में तब्दील किया गया है। उन्होंने बताया आज तक कॉलेज के संस्थापक बाबू शिवनाथ अग्रवाल जी की जयंती नहीं मनाई गई थी इस बार 22 दिस. को कार्यक्रम मनाया गया। छात्रों के व्यक्तित्व विकास के लिये नये पाठ्यक्रम लाये जा रहे है, खेल-कूद, योग, स्काउड पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। सिविल सर्विसेज, बीएड टैट के लिये फ्री कोचिंग की व्यवस्था की जा रही है। वर्तमान में कॉलेज में करीब 7 हजार छात्र-छात्राएं है। उनके लिये टॉयलेट की नाम की व्यवस्था थी अब नये 11 टॉयेलेट साफ सुथरे बनवाये गये हैं
उन्होंने बताया कि कॉलेज में अनुशासन बना रहे इसके लिये वह स्वयं कक्षाओं में पढ़ाते है। आगामी 8 मई को कॉलेज में छात्र संसद का आयोजन किया गया है जिसके मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद हरिद्वार दुबे होंगे।
उन्होंने मथुरा-वृंदावन नगर निगम के आयुक्त अनुनय झा की तारीफ करते हुए कहा कि महाविद्यालय में प्रकाश और पेयजल व्यवस्था में उनका विशेष सहयोग रहा है। इनके अलावा सांसद और विधायक निधि से विभिन्न प्रकार की सहायता मिली है। पत्रकार वार्ता के दौरान डॉ. बी.के. गोस्वामी, डॉ. पंकज पाठक, डॉ. प्रवीण शर्मा, डॉ. विधोत्तमा, डॉ. यू.के. त्रिपाठी उपस्थित रहे।

Back to top button