कोविड और बूस्टर डोज के लिए लोगों को जागरूक…

डे नाईट न्यूज़ । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। विशेषज्ञ जिस कोविड लहर के आने की आशंका जता रहे हैं, उससे हमें सतर्क रहने की जरूरत है। वायरस का यह वैरिएंट सामान्य वायरल की तरह ही है। मुख्यमंत्री ने कोविड का टीका लगाने और बूस्टर डोज के लिए लोगों को प्रेरित करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

मुख्मंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को टीम-09 की बैठक के दौरान कहा कि प्रदेश में वर्तमान में कोरोना के कुल एक्टिव केस की संख्या 1277 है। पिछले 24 घंटों में 94 हजार 324 कोरोना टेस्ट किए गए। इसमें 210 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई। इसी दौरान132 लोग उपचार के बाद कोरोना मुक्त हुए हैं। गौतमबुद्ध नगर में 120, गाजियाबाद में 49 और लखनऊ में 12 नए पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। इन जिलों में अतिरिक्त सतर्कता बरती जाए।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से कोविड के नए केस में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। हालांकि स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार इस बार वायरस कमजोर है। संक्रमण तीव्र नहीं है। विशेषज्ञों के अनुसार संभव है कि आने वाले दिनों में नए पॉजिटिव केस में इजाफा देखने को मिले लेकिन वायरस का यह वैरिएंट सामान्य वायरल की तरह ही है। कोविड टीका लगवा चुके लोगों के लिए खतरे की संभावना न्यून है। बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर हमें सतर्क रहना होगा।

उन्होंने कहा कि एनसीआर व लखनऊ जैसे जिलों में जहां केस अधिक मिल रहे हैं, वहां फेस मास्क की अनिवार्यता को प्रभावी बनाया जाए। लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन के लिए जागरूक किया जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाए।

योगी ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान अस्पतालों में कार्य करने वाले कार्मिकों की सेवाभावना प्रेरणास्पद है। ऐसे कार्मिकों के भविष्य की सुरक्षा के विभिन्न सेवाओं में वेटेज दिया जाना चाहिए। इस संबंध में विस्तृत प्रस्ताव तैयार करें।

प्रदेश में अब तक 31 करोड़ 10 लाख से अधिक कोविड टीकाकरण के साथ ही 18 वर्ष से अधिक आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 87.47 प्रतिशत से अधिक वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 94.62 फीसदी किशोरों को पहली खुराक मिल गयी है। 63.77 फीसदी से अधिक किशोरों को दोनों डोज लग चुकी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों के टीकाकरण को और तेज करने की आवश्यकता है। 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को पहली डोज के बाद अब पात्रता के अनुसार दूसरी डोज भी दी जाए।

उन्होंने कहा कि 18 साल से अधिक आयु के लोगों को बूस्टर डोज लगाए जाने में तेजी की अपेक्षा है। प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि एक भी नागरिक टीका कवर से वंचित न रहे। बूस्टर डोज की महत्ता और बूस्टर टीकाकरण केंद्रों के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए।

Back to top button