रियल एस्टेट क्षेत्र में सुधर होने की सम्भावना…

डे नाईट न्यूज़ । क्रेडिट रेटिंग एजेंसी इक्रा ने चालू वित्त वर्ष के लिए आवासीय रियल एस्टेट परिदृश्य को ‘नकारात्मक’ से संशोधित करते हुए ‘स्थिर’ श्रेणी में रखा है। इसका कारण मांग में सुधार है।

इक्रा रेटिंग्स ने शुक्रवार को एक बयान में वित्त वर्ष 2022-23 के लिए आवासीय रियल एस्टेट बाजार के परिदृश्य में सुधार किया। इसके साथ ही उसने कहा कि इस वित्त वर्ष में देश के सात प्रमुख शहरों में आवासीय इकाइयों की बिक्री तीन प्रतिशत बढ़ने की संभावना है।

इक्रा ने कहा, ‘इस क्षेत्र के परिदृश्य में संशोधन को कई वर्षों की उच्च वृद्धि से समर्थन मिला है। अपना घर होने की बढ़ती प्राथमिकता, किफायती स्तर में सुधार आने, आवासीय ऋणों पर ब्याज दरों के सबसे निचले स्तर पर होने जैसे कारकों से वृद्धि को मजबूती मिली है।’

इक्रा के उपाध्यक्ष मैथ्यू कूरियन ने कहा, ‘कोविड के प्रकोप के बाद मांग में तीव्र सुधार आया है जिससे बनकर तैयार हो चुकी परियोजनाओं में कीमत को लेकर लचीलापन बढ़ा है।’

उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष में भी निर्माण लागत बढ़ने से आवासीय इकाइयों की कीमतें बढ़ने की संभावना है लेकिन यह किसी परियोजना की बिक्री स्थिति पर भी निर्भर करेगा।

कूरियन ने कहा, ‘मांग अच्छी रहने की उम्मीद और पूरी हो चुकी परियोजनाओं में कीमत संबंधी लचीलेपन से डेवलपरों को अपनी मार्जिन बनाए रखने में मदद मिल सकती है।’

उन्होंने कहा कि अगर आवासीय ऋण पर ब्याज दरों में मौजूदा स्तर से 0.5 से 0.75 प्रतिशत बढ़ोतरी कर दी जाती है तो भी घरों की मांग मजबूत बने रहने की ही उम्मीद है। अनबिकी इकाइयों की संख्या कम होने और मांग बने रहने से इस साल नई परियोजनाएं भी शुरू होने की उम्मीद है।

कूरियन ने कहा, ‘वर्ष 2022-23 में करीब 40 करोड़ वर्ग फुट क्षेत्र की परियोजनाएं शुरू होने की उम्मीद है जो पिछले वित्त वर्ष में शुरू हुई 33 करोड़ वर्ग फुट की नई परियोजनाओं से 21 प्रतिशत अधिक है।’

उन्होंने कहा कि बड़े एवं स्थापित नाम वाले बिल्डरों को समय पर आपूर्ति के दम पर बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने में मदद मिलेगी जबकि कमजोर बिल्डरों को अभी संघर्ष करना पड़ेगा।

Back to top button