शादी से जुड़े काम करने वालों के खिले चेहरे हुआ फयदा…

-मथुरा के बाजारों में रौनक बढ़ी, ज्यादातर मैरिज होम हुए बुक
-कोरोना के बाद शादियों में काम मिलने की उम्मीद

डे नाईट न्यूज़ । 17 अप्रैल से वैशाख का महीना शुरू होते ही शादियों का सीजन भी शुरू हो गया है। इसके साथ ही इससे जुड़े काम करने वाले कारोबारी और कामगारों के चेहरे पर रौनक आ गई है। कोरोना के दो साल के दौर के बाद इस बार लोगों को शादी के सीजन से अच्छी कमाई होने की उम्मीद है। उधर, बाजारों में रौनक बढ़ गई है, तो ज्यादातर मैरिज होम बुक हैं।

कोरोना काल के दौरान कभी लॉकडाउन, तो कभी प्रतिबंध के चलते पिछले दो सालों से मांगलिक कार्यों में लगातार व्यवधान आ रहे थे। मगर, अब मांगलिक कार्य बिना किसी व्यवधान के हो रहे हैं। शादी के काम से जुड़े लोगों का मानना है कि इस बार बिना प्रतिबंध के शादी होने से उनको अच्छा काम मिलेगा। शादी के काम से टेंट, लाइट, डेकोरेशन, वाहन, मैरिज होम संचालक, हलवाई, बैंड, घोड़ी वाले, किराना स्टोर, ज्वेलर्स आदि सीधे-सीधे इस व्यवसाय से जुड़े हैं। शादी के काम से जुड़े लोगों का मानना है कि इस बार बिना प्रतिबंध के शादी होने से उनको अच्छा काम मिलेगा। एक शादी समारोह में काम करते हलवाई।

एक शादी से मिलता है 100 से 200 लोगों को रोजगार
शादी के काम से जुड़े टेंट व्यवसायी शुभम अग्रवाल ने बताया कि एक शादी से 100 से 200 लोगों को रोजगार मिलता है। कोरोना काल में शादियों में पाबंदी होने के कारण लोग केवल जरूरी काम ही करवा रहे थे। मगर, अब पाबंदी नहीं है। इसलिए अभी से 20 से ज्यादा बुकिंग मिल गई हैं। इसी तरह लाइट वाले, डेकोरेशन वाले, मैरिज होम संचालक भी इस बार खुश नजर आ रहे हैं।

इस बार हैं 4 महीने में हैं शादी के 38 मुहूर्त
17 अप्रैल से शुरू हुआ शादी का सीजन देवशयनी एकादशी तक चलेगा। अप्रैल, मई, जून और जुलाई में इस बार शादी के 38 शुभ मुहूर्त हैं। इनमें सबसे बड़ा मुहूर्त अक्षय तृतीया का है। दो साल बाद यह पहला मौका है जिसमें पंचांग के अनुसार शादी के इतने मुहूर्त हैं। इससे पहले दो साल तक कभी नक्षत्र, कभी ग्रहों की चाल और कभी कोरोना का कहर होने के कारण एक साथ इतने मुहूर्त नहीं थे।

पूरे सीजन का सबसे अच्छा मुहूर्त मई में
अगर आप इस सीजन में शादी की प्लानिंग कर रहे हैं, तो विवाह के लिए 3 मई से अच्छा शुभ मुहूर्त कोई भी नहीं है। इस साल 3 मई को सबसे ज्यादा शादियां होने की उम्मीद है। क्योंकि इस दिन शुभ मुहूर्त के साथ साथ अक्षय तृतीया भी है। इसके साथ ही बैशाख शुक्ल पक्ष (मई) में 2, 3, 4, 9, 10, 11, 12, 14, 16, 18, 20, 25, 26, 30 और 31 को लगन है।

जून में शादी के मुहूर्त

जून के महीने में 5, 6, 7, 8, 9,10, 11, 12, 13, 16, 21 को शुभ मुहूर्त हैं।

जुलाई में शुभ मुहूर्त

जुलाई में 3, 5, 6 और 8 को शुभ मुहूर्त हैं।

8 जुलाई से 24 नवंबर तक फिर बंद हो जाएंगी शादियां
8 जुलाई से चातुर्मास शुरु होने के कारण अगले चार माह तक विवाह या अन्य शुभ कार्य फिर से बंद हो जाएंगे। सनातन परंपरा के मुताबिक इस अवधि के बीच देवी-देवता शयन में होते हैं। इसलिए इस बीच विवाह के लिय कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं होता है। फिर 24 नवंबर को देवोत्थानी एकादशी के बाद विवाह कार्य शुरु होंगे।

Back to top button