डीजीसीए ने स्पाइस जेट के 90 पायलटों को बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने से रोका….

डे नाईट न्यूज़ । नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी स्पाइस जेट के 90 पायलटों के बोइंग 737 मैक्स विमान उड़ाने पर रोक लगा दी है। हालांकि, ये पायलट अन्य विमानों को उड़ा सकते हैं।

डीजीसीए के महानिदेशक अरूण कुमार ने कहा कि फिलहाल ये पायलट बोइंग 737 मैक्स को नहीं उड़ा सकते हैं। इन्हें यह विमान उड़ाने के लिये पहले दोबारा प्रशिक्षण लेना होगा।

उन्होंने कहा कि जो भी इस निर्देश का पालन नहीं करेंगे, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

वर्तमान में स्पाइस जेट के 650 पायलट बोइंग 737 मैक्स विमान का संचालन करने के लिये प्रशिक्षित हैं। इसी वजह से डीजीसीए के नये आदेश से विमान परिचालन में कोई बाधा नहीं आयेगी।

स्पाइस जेट देश की एकमात्र ऐसी विमानन कंपनी है, जिसके पास बोइंग 737 मैक्स विमान है। कंपनी के पास 11 ऐसे विमान हैं और इनके संचालन के लिये कंपनी को करीब 144 पायलट की जरूरत होती है।

स्पाइस जेट क प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी के 650 पायलट बोइंग 737 मैक्स को उड़ा सकते हैं। डीजीसीए की सलाह पर 90 पायलटों को इस विमान को उड़ाने से रोका दिया गया है। ये पायलट जब डीजीसीए के अनुसार संतोषजनक दोबारा प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे, तो फिर ये इन विमानों को भी उड़ा सकेंगे।

बोइंग 737 मैक्स लंबी दूरी की विमान यात्रायें करने में सक्षम है। यह नॉन स्टॉप सिंगापुर, दोहा, कुवैत, अबू धाबी, रियाद, कुआलालम्पुर, तेहरान, सलालाह, चीन, क्राबी, मॉस्को और इस्ताम्बुल के लिये उड़ान भर सकता है। यह विमान रास्ते में एक जगह रुक कर फिनलैंड, नॉर्वे, मोरक्को, लंदन और एम्स्टर्डम के लिये भी आसानी से उड़ान भर सकता है।

यह न सिर्फ लंबी दूरी तक उड़ान भरने में सक्षम है बल्कि यह पुराने संस्करण की तुलना में 20 प्रतिशम कम ईंधन की खपत करता है।

Back to top button