वर्तमान परिप्रेक्ष्य में भाजपा स्थापना दिवस -त्रिलोक कपूर…

डे नाईट न्यूज़ आज भाजपा का स्थापना दिवस है। ऐसे में केंद्र और राज्य में भाजपा के वर्तमान परिपे्रक्ष्य में कार्यों को समझने का बड़ा अवसर है। आजकल की ही बात करें तो भारत का निर्यात गत वर्ष 4 खरब 18 अरब डॉलर रहा। यह पिछले 74 वर्षों में रिकॉर्ड है। आयात-निर्यात में अंतर मात्र 1 खरब 60 अरब करोड़ डॉलर रह गया है। आत्मनिर्भर भारत के प्रयास सफल होते दिख रहे हैं। मार्च महीने में जीएसटी के रूप में एक लाख चालीस हजार करोड़ रुपए इकट्ठे हुए। भारत ने मुफ्त राशन की योजना अगले छह महीने के लिए बढ़ाई। वहीं श्रीलंका में जीवन रक्षक दवाइयों भी मिलना मुश्किल है। आटा 400 रुपए किलो मिल रहा है। सारी कैबिनेट ने इस्तीफा दे दिया है। केवल दो रिश्तेदारों राजपक्षे भाइयों ने परिवारवाद के चक्कर में देश बर्बाद कर दिया। अब पाकिस्तान की बात करें। 2006 में भारत के एक रुपए के मुकाबले पाकिस्तान के रुपए की कीमत 1 रुपए 60 पैसे थी जो आज 2 रुपए 45 पैसे हो गई है। पाकिस्तान में पेट्रोल 150 रुपए लीटर और आटा 300 रुपए किलो मिल रहा है। दूध के दाम पेट्रोल को टक्कर दे रहे हैं। इमरान खान और बाजवा को भारत की न चाहते हुए भी तारीफ करनी पड़ रही है। कहने का अभिप्राय है कि कोरोना और यूक्रेन लड़ाई के बाद भी भारत सबसे तेज गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था बन गई। भारत की विदेश नीति के डंके हर जगह बज रहे हैं। भारत में केंद्रीय कर्मचारियों और हिमाचल में कर्मचारियों की प्रतिमाह वेतन में 4 हज़ार से 15 हज़ार तक वृद्धि हुई है। पेंशन धारकों की आयु सीमा घटा कर 60 वर्ष कर दी है। किसान के खाते में 6000 रुपए आ रहे हैं। आज से हिमाचल में 213 टेस्ट मुफ्त में शुरू होने जा रहे हैं। 60 यूनिट बिजली फ्री हो गई है।

ट्रांसपोर्टरों, होटलियर्स, व्यापारियों व निजी स्कूलों के अभिभावकों, सब वर्गों को राहतें इस दौर में हिमाचल और केंद्र की भाजपा सरकार ने दी हैं। हिमाचल में भी रिकॉर्ड जीएसटी सरकार को प्राप्त हुआ है जो राजस्व घाटा कम करने की दिशा में काम आएगा। महंगाई अगर बढ़ी है तो आय के स्रोत भी बढ़े हैं। बाजारों और मेलों की रौनक बता रही है कि खरीददारी बढ़ रही है। बाजार में पैसे का फ्लो बढ़ना सुखद संदेश है। कांगड़ा के फोर्सेयतगंज प्राथमिक सरकारी स्कूल को देखा तो उसके आगे निजी स्कूल भी बौने लगे। मालूम चला कि प्रदेश में 178 स्कूलों के आधारभूत ढांचे भारत के बड़े-बड़े स्कूलों से अच्छे हैं। सबसे शिक्षित अध्यापक पूरे भारत में हिमाचल में ही हैं। हिमाचल में हींग, केसर, दाल चीनी, नींबू घास व गेंदे की खेती के प्रयासों से किसानों की आमदनी अवश्य बढ़ेगी। जहां पिछले 7 वर्षों में देश में मोदी जी के शासन में भाजपा की सरकार ने सच में बहुत ऐतिहासिक काम किए हैं, वहीं हिमाचल में भी जयराम ठाकुर के नेतृत्व में भाजपा ने सामाजिक सुरक्षा और विकास की धारा को बढ़ाया है, कर्मचारियों का दिल जीता है और क्षेत्रवाद के विवाद का अंत किया है। एक बार फिर से भाजपा के स्थापना दिवस की शुभकामनाएं। भाजपा के राष्ट्रवाद व सही नीतियों के कारण ही दक्षिण एशिया में केवल भारत तरक्की कर रहा है। हमें इससे आगे और मेहनत करनी है, यही स्थापना दिवस का संकल्प है। हिमाचल की जयराम सरकार के प्रति जन-विश्वास बढ़ा है। इसके कई कारण हैं। एक कारण यह भी है कि प्रदेश में गरीबों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। कई लाख लोगों को मुफ्त राशन भी दिया जा रहा है। आयुष्मान भारत के तहत 4.25 लाख परिवारों के गोल्डन कार्ड बनाए गए। 1.22 लाख लाभार्थियों का 148.78 करोड़ रुपए खर्च कर निशुल्क इलाज किया गया।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 1.36 लाख परिवारों को निःशुल्क गैस कनेक्शन दिए गए। इस पर 21.86 करोड़ रुपए खर्च किए गए। मुख्यमंत्री हिमाचल हेल्थकेयर योजना-हिमकेयर के तहत 5.13 लाख परिवार पंजीकृत किए गए। 2.29 लाख लाभार्थियों के इलाज पर 207.23 करोड़ रुपए खर्च किए गए। मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के तहत 3.23 लाख परिवारों को निःशुल्क गैस कनेक्शन दिए गए। 2.39 लाख लाभार्थियों को एक अतिरिक्त गैस रिफिल किया गया। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत राज्य के 9.37 लाख से अधिक किसानों को लगभग 1532.38 करोड़ रुपए दिए गए। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत 3426 लाभार्थियों को 3.64 करोड़ रुपए के ऋण दिए गए। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत वर्ष 2018 से अब तक 15.66 करोड़ रुपए खर्च कर 4878 लाभार्थियों को मकान स्वीकृत हुए। सामाजिक सुरक्षा पंेशन 3.07 लाख वृद्धजनों को मिल रही है। 1500 रुपए मासिक पेंशन दी जा रही है। प्राकृतिक खेती-खुशहाल किसान योजना के तहत भी उल्लेखनीय कार्य हुए हैं। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत 356.72 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 29 लाख से ज्यादा पात्र लोग लाभान्वित हुए हैं। जल जीवन मिशन व शहरी आवास पर भी काम हो रहा है। प्रदेश में 232 जनमंच आयोजित कर जन-समस्याएं सुलझाई गईं।

(लेखक महामंत्री, हिमाचल भाजपा है)

Back to top button