संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से रूस के निलंबन की मांग करेंगे : अमेरिकी राजदूत…

वाशिंगटन, 05 अप्रैल (वेब वार्ता)। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड ने कहा कि अमेरिका अब यूक्रेन, यूरोपीय देशों और संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के अन्य भागीदारों के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से रूस के निलंबन की मांग करेगा।

थॉमस-ग्रीनफील्ड ने बुखारेस्ट में सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह मंगलवार को न्यूयॉर्क लौटेंगी और इस दिशा में काम शुरू कर देंगी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं दो कार्यों को अंजाम देने के लिए तत्काल न्यूयॉर्क लौट रही हूं। मैं इस मांग को कल सुबह सुरक्षा परिषद में उठाऊंगी और रूस की कार्रवाइयों का दृढ़ता एवं प्रत्यक्ष रूप से विरोध करूंगी।’’

थॉमस-ग्रीनफील्ड ने कहा कि यूक्रेन के खिलाफ बिना उकसावे वाला युद्ध छेड़ने और वहां मानवीय संकट उत्पन्न करने के लिए यूएन के 140 सदस्य देश पहले ही मॉस्को की निंदा कर चुके हैं।

उन्होंने कहा कि रूस के पास उस निकाय में अधिकार की स्थिति नहीं होनी चाहिए, न ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय को रूस को परिषद में अपनी भूमिका का इस्तेमाल इस बात के प्रचार के लिए करने देना चाहिए कि वह मानवाधिकारों को लेकर कितना चिंतित है।

थॉमस-ग्रीनफील्ड ने कहा, ‘‘हमने हर रोज, यहां तक कि कल भी देखा था कि उन्हें मानवाधिकारों की कितनी चिंता है। मानवाधिकार परिषद में रूस की भागीदारी एक स्वांग है। इससे परिषद और संयुक्त राष्ट्र की विश्वसनीयता को ठेस पहुंचती है। इसलिए हमारा मानना है कि समय आ गया है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा उसे निलंबित कर दे।’’

‘एनपीआर’ को दिए एक साक्षात्कार में वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह कदम केवल प्रतीकात्मक नहीं, बल्कि उससे कहीं अधिक है।

थॉमस-ग्रीनफील्ड ने कहा, ‘‘उनका कहना है कि वे जो कर रहे हैं, वो सामान्य है। यह सामान्य नहीं है। पूरी दुनिया उन्हें यह स्पष्ट संदेश देगी कि वे अपनी गलत सूचनाओं के प्रसार के लिए संयुक्त राष्ट्र के मंच का इस्तेमाल नहीं कर सकते।’’

Back to top button