दक्षिण कोरियाई नियामक अगले सप्ताह गूगल की नई नीति पर करेगा काम…

डे नाईट न्यूज़। दक्षिण कोरिया के दूरसंचार नियामक ने शुक्रवार को कहा कि वह इस बात की जांच कर रहा है कि क्या गूगल की नई भुगतान प्रणाली उस कानून का उल्लंघन करती है जो ऐप स्टोर ऑपरेटरों को अपने इन-ऐप भुगतान सिस्टम का उपयोग करने के लिए डेवलपर्स को मजबूर करने से रोकता है। कोरिया संचार आयोग (केसीसी) के एक अधिकारी ने कहा, हम मामले की समीक्षा कर रहे हैं और अगले सप्ताह की शुरुआत में परिणाम और प्रतिक्रिया की घोषणा करेंगे। शुक्रवार से, गूगल प्ले में डिजिटल सामान और सेवाओं की बिक्री करने वाले सभी ऐप डेवलपरों को गूगल के बिलिंग सिस्टम का उपयोग करना होगा और बाहरी भुगतान लिंक को हटाना होगा। गूगल ने कहा कि अनुपालन न करने वाले ऐप्स अपडेट की पेशकश नहीं कर पाएंगे और अंतत: 1 जून से गूगल प्ले स्टोर से हटा दिए जाएंगे। योनहाप समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में कई ऐप डेवलपर्स ने वैकल्पिक इन-ऐप बिलिंग सिस्टम का उपयोग किया है या यूजर्स को गूगल की बिलिंग नीति को दरकिनार करने के लिए भुगतान के लिए एक बाहरी लिंक पर निर्देशित किया है, जो इन-ऐप खरीदारी में 15-30 प्रतिशत की भारी कटौती करता है। पिछले साल, दक्षिण कोरिया ने एक कानून पारित किया, जो वैश्विक बड़ी तकनीकी कंपनियों के प्रभुत्व को रोकने के लिए एक ऐतिहासिक निर्णय में, गूगल और एप्पल जैसे प्रमुख ऐप स्टोर डेवलपर्स को ऐप डेवलपर्स को अपने भुगतान सिस्टम का उपयोग करने के लिए मजबूर करने से रोकता है। प्रभावी कानून के साथ, दक्षिण कोरिया में यूजर्स वाले डेवलपर्स के पास अपने स्वयं के इन-ऐप बिलिंग सिस्टम की पेशकश करने का विकल्प होता है। लेकिन उन्हें अभी भी भुगतान के लिए बाहरी लिंक को डिलीट करना होगा। कई ऐप ऑपरेटरों, जिन्होंने गूगल नीति को दरकिनार करने के लिए ऐसे बाहरी लिंक का उपयोग किया है, उन्होंने हाल ही में अपनी स्वयं की भुगतान प्रणाली स्थापित करने के बजाय अपनी सदस्यता शुल्क बढ़ा दिया है, जिससे उन्हें पैसे खर्च करने होंगे। म्यूजिक ऐप ़फ्लो ने अपनी मासिक सदस्यता शुल्क में 14 प्रतिशत और स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म टविंग ने शुल्क में 15 प्रतिशत की वृद्धि की।

Back to top button