नजफगढ़ में जाम से राहत दिलाएगा वन वे फ्लाईओवर…

डे नाईट न्यूज़। नजफगढ़ में जाम की समस्या से लोगों को जल्द निजात मिल सकती है। दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग ने नजफगढ़ रोड पर जाम की समस्या को दूर करने के लिए विस्तृत योजना तैयार की है। इसके लिए यहां एलिवेटेड रोड का निर्माण किया जाएगा। योजना के तहत एलिवेटेड रोड की चौड़ाई 11 मीटर होगी। यह सड़क वन वे होगी। नजफगढ़ रोड पर नजफगढ़ साईं मंदिर और डीडीए पार्क के बीच एलिवेटेड रोड का निर्माण कार्य शुरू होगा।

योजना को एक साल के अंदर पूरा किया जाना है, इस कारण अलग-अलग हिस्से का काम अलग-अलग ठेकेदारों को सौंपे जाएंगे। एलिवेटेड रोड पर बहादुरगढ़ रोड, नांगलोई रोड, ढांसा रोड, छावला रोड की ओर से वाहन चढ़ सकेंगे। इस निर्माण कार्य से नांगलोई, उत्तम नगर, द्वारका, ढांसा, गुरुग्राम, बहादुरगढ़ से आने-जाने वाले वाहन सवारों के लिए आसानी हो जाएगी। साथ ही नजफगढ़ की 250 कॉलोनियों के साथ ही 45 गांव के लोगों को सहूलियत होगी।

बीते दिनों लोकनिर्माण विभाग ने इस योजना पर स्थानीय आरडब्ल्यूए पदाधिकारियों के साथ बैठक की। सरकार की ओर से बनाए गए नक्शे के बारे में पदाधिकारियों को बताया। स्थानीय विधायक और दिल्ली सरकार के राजस्व व परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने इस दौरान ऑनलाइन माध्यम से बैठक में भाग लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि नजफगढ़ की फिरनी को जाममुक्त करने का लोगों से वादा किया था। लोकनिर्माण विभाग के साथ बैठक कर नक्शा तैयार कर लिया गया है। जल्द इस नक्शे को मंजूरी मिलने की उम्मीद है।

चार मिनट का रास्ते पर 40 मिनट लगते हैं
नजफगढ़ फिरनी रोड छह मुख्य सड़कों से जुड़ती है, जिसमें नांगलोई, घुम्मनहेड़ा, उत्तम नगर, छावला, ढांसा और बहादुरगढ़ रोड शामिल है। इसके कारण यहां वाहनों की आवाजाही अधिक होने से जाम की समस्या बनी रहती है। इसके साथ ही दिल्ली गेट के पास 4 गवर्नमेंट स्कूल है, जब उन स्कूलों की छुट्टी होती है तो इस रोड पर जाम लग जाता है। इन सभी कारणों से यदि किसी व्यक्ति को इस रास्ते से निकलना हो तो केवल चार मिनट का रास्ता पार करने में 40 मिनट लग जाता है, जिसके कारण प्रदूषण भी बढ़ता है। इसलिए यहां से ट्रैफिक की समस्या का खत्म होना बेहद जरूरी हो गया है।

सड़क की चौड़ाई कम की गई थी
नजफगढ़ रोड साल 2012 में दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने पीडब्ल्यूडी को सौंपा गया था। इसमें 32 मीटर रोड की जगह इसे 22 मीटर कर दिया गया और इसी वजह से यहां ट्रैफिक की समस्या उत्पन्न होने लगी।

Back to top button