प्रेस कानफरेंस: शिरोमणी अकाली दल की 21 सदस्यी कमेटी की घोषणा

डे नाईट न्यूज़ । शिरोमणी अकाली दल के वरिष्ठ नेता एवं तख्त पटना साहिब कमेटी के अध्यक्ष जत्थेदार अवतार सिंह हित द्वारा आज एक प्रैस कानफरेंस कर दल की 21 सदस्यी कमेटी का गठन किया गया। मीडीया से रुबरु होते हुए जत्थेदार अवतार सिंह हित ने साफ किया कि शिरोमणी अकाली दल शहीदों की जत्थेबंदी है जिसका गठन अनेक शहादतों के बाद हुआ वह कभी मर नहीं सकती, उसका खात्मा करने वालों का स्वयं का खात्मा हो जायेगा। बीते दिनों शिरोमणी अकाली दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल द्वारा दिल्ली में पार्टी की कमान एक बार फिर से पार्टी के वरिष्ठ अकाली नेता जत्थेदार अवतार सिंह हित को सौंपी गई और आज जत्थेदार अवतार सिंह हित ने सः सुखबीर सिंह बादल की कोठी 11 तिलक मार्ग पर प्रैस कानफरेंस बुलाकर मीडीया के सामने अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि यह प्रैस कानफरेंस पार्टी के गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब में बुलाई जानी चाहिए थी पर उस कार्यालय पर पंथदोखियों ने जबरन कब्जा कर लिया जिसके चलते हाल फिलहाल इस स्थान पर इसे रखा गया। जत्थेदार हित ने कहा हालांकि कानूनी तौर पर जो कार्यालय शिरोमणी अकाली दल को एलाट हुआ था और कोर्ट से जो एग्रीमेंट हुआ था उसमें कार्यालय जत्थेदार अवतार सिंह हित के नाम पर है इसलिए उस पर किसी और दल का कब्जा नहीं हो सकता। जत्थेदार हित ने साफ कहा कि आज नहीं तो कल जिन लोगों ने पार्टी आफिस पर कब्जा किया है उन्हें वह खाली करना ही होगा। जत्थेदार अवतार सिंह हित ने कहा पार्टी में उतार चढ़ाव आते ही रहते हैं पर वह हमेशा पार्टी के वफादार सिपाही के रुप में पार्टी के साथ खड़े थे, खड़े हैं और आगे भी रहेंगे। उन्होंने बताया कि एक बार पहले भी ऐसा समय आया था जब सभी लोग पार्टी का साथ छोड़ गये थे पर दिल्ली में अकेले जत्थेदार हित उस दौरान भी स. प्रकाश सिंह बादल के साथ डटकर खड़े हुए थे और पार्टी को पुनः खड़ा किया और इस मुकाम तक पहुंचाया। उन्होंने कहा इसलिए जो लोग पार्टी से गदारी करके अपने निजी स्वार्थों के लिए पार्टी को खत्म करने पर अमादा हैं वह अच्छे से समझ लें शिरोमणी अकाली दल शहीदों की जत्थेबंदी हमेशा कायम रहेगी पर पार्टी के गदारी करने वाले इन पंथ दोखी जितनी मर्जी पार्टियां बना लें संगत उन्हें मुंह नहीं लगाएगी। इस मौके पर जत्थेदार अवतार सिंह हित के साथ सुखदेव सिंह रयात, प्रितपाल सिंह कपूर, तेजपाल सिंह, अमरीत सिंह खानपुरी, अमरजीत सिंह संधू, अवनीत सिंह रायसन आदि मौजूद रहे। 21 सदस्यी कमेटी में अवतार सिंह हित, भुपिन्दर सिंह आनंद, रविन्दर सिंह खुराना, प्रितपाल सिंह कपूर, सुखदेव सिंह रयात, गुरदेव सिंह भोला, एम जी एस बिन्दरा, तेजपाल सिंह, अमरजीत सिंह संधु, अमरीत सिंह खानपुरी, सुरजीत सिंह विलखू, सुदीप सिंह, अवनीत सिंह रायसन, तरलोक सिंह नागरा, राजपाल सिंह पम्मी, सतपाल सिंह, जगमोहन सिंह विर्क, मनदीप सिंह भामरा, परमजीत सिंह मान, भुपिन्दर सिंह मानक, जगदेव सिंह राणा शामिल हैं।

Back to top button