उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति ने किया जिला जेल का निरीक्षण,कमियों को दुरुस्त करने का दिया निर्देश

गाजीपुर ।उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति लखनऊ के चेयरमैन डॉ उमेश शर्मा जी के निर्देशानुसार आज प्रदेश जोन सचिव मयंक सिंह व जिला सचिव अभिषेक सिंह अपराध निरोधक समिति के सदस्यों द्वारा जिला कारागार गाजीपुर का निरीक्षण किया गया | उ. प्र.अपराध निरोधक समिति द्वारा जिला जेल का पूर्ण निरीक्षण किया गया, निरीक्षण के दौरान जिला कारागार में कुल 1000 कैदी है जिसमें पुरुष 886 व महिला 44 है अल्प वयस्क 70 हैं ।डिप्टी जेलर शिव कुमार यादव, रविंद्र सिंह यादव व कमल चंद ने बैरक् संख्या 3 व 4 के साथ साथ जेल अस्पताल व पाकशाला का निरीक्षण कराया। कैदियों को योग व शिक्षा धर्मेंद्र श्रीवास्तव द्वारा दी जाती है । जिला अस्पताल में चिकित्सक व फार्मासिस्ट सहित चार व्यक्तियों का स्टाफ है।
कारागार अस्पताल में एंबुलेंस न होने के कारण गंभीर व त्वरित मामलों में तुरंत समाधान में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है,इसके लिए समिति चेयरमैन के माध्यम से शासन को अवगत कराएगी,जिससे इसका कमी का निदान हो सके। निरीक्षण के दौरान साफ सफाई व व्यवस्था संतोषजनक पाई गई।जिला जेल में 397 कैदी की क्षमता है जिसके सापेक्ष 1000 कैदी बंद है। डिप्टी जेलर कमल चंद ने बताया कि जेल के अंदर आने वाले लोगों को गहन चेकिंग करके व कोविड-19 का ध्यान देते हुए सभी को सैनिटाइज करके ही अंदर प्रवेश करने दिया जाता है जेल में 34 सीसीटीवी कैमरे लगे है जो सभी काम करते पाए गए। जेल की बाउंड्री वॉल 12 फीट का ही होना बताया,जो कि सुरक्षा दृष्टि से और बढ़ाई जाना आवश्यक है।जिला कारागार में कुछ स्टाफ कम है,इसके बावजूद अधीक्षक,जेलर व उनके स्टाफ द्वारा व्यवस्था को समुचित चलाया जा रहा है। कारागार अधिकारियों ने अवगत कराया कि दीवालें व चारदीवारी की स्थिति जर्जर है जिसके लिए कई बार पत्र लिखा जा चुका है। जेल का निरीक्षण करने वाली टीम में उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति के जोन सचिव मयंक कुमार सिंह, जिला सचिव/जेल पर्यवेक्षक अभिषेक सिंह, सहायक सचिव सुनील गुप्ता, रविकांत पांडेय,आशीष कुमार, विजय प्रताप सिंह , शेरशाह, सभी डिप्टी जेलर मौजूद रहे।
उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति की टीम का जिला कारागार प्रशासन ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Back to top button