सिंगापुर में तीसरी खुराक ले चुके 2 लोग नए वैरिएंट से संक्रमित मिले, सरकार ने जताई चिंता।

DAY NIGHT NEWS LUCKNOW

बूस्टर डोज ले चुके सिंगापुर के दो नागरिकों की ओमिक्रॉन वैरिएंट की शुरुआती रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने गरुवार को बताया कि हवाई अड्डे पर परीक्षण के दौरान एक 24 वर्षीय युवती की शुरुआती रिपोर्ट में ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई है। वहीं छह दिसंबर को जर्मनी से लौटे एक यात्री में भी ओमिक्रॉन मिला है। इस व्यक्ति ने भी कोविड-19 टीके की तीसरी खुराक ली थी। 
सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि पूरी दुनिया में ओमिक्रॉन वैरिएंट के संक्रमण को देखकर आशंका जताई जा रही है कि देश में भी ओमिक्रॉन के अन्य मामले सामने आ सकते हैं। मंत्रालय की ओर से जारी बयान में बताया गया कि ओमिक्रॉन के लक्षण सामने आने के बाद दोनों संक्रमितों को राष्ट्रीय संक्रामक रोग केंद्र में रखा गया है, जहां उनका उपचार किया जा रहा है। वहीं उनके संपर्क में आने वाले लोगों को 10 दिन तक आइसोलेशन में रखा जाएगा। 
सिंगापुर दुनिया के सबसे अच्छे टीकाकरण अभियान वाले देशों में से एक है। यहां 87 प्रतिशत लोगों का पूरी तरह से टीकाकरण किया जा चुका है। वहीं करीब 29 प्रतिशत लोगों को बूस्टर डोज भी लगाया जा चुका है। सरकार जल्द ही पांच से 11 साल के बच्चों के लिए भी कोरोना की खुराक शुरु करने जा रही है। 

लोकसभा में बोले स्वास्थ्य मंत्री: 86% वयस्कों को दी जा चुकी है। कोरोना वैक्सीन की कम से कम एक खुराक, जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए देश में 36 लैब
स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने लोकसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि सरकार जल्द 100 प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा करेगी।

संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि देश में अब तक 86 प्रतिशत लोगों को कोरोना वैक्सीन की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है। उन्होंने एनके प्रेमचंद्रन, राजीव रंजन सिंह, मनीष तिवारी व अन्य नेताओं की ओर से पूछे गए सवाल के जवाब में यह टिप्पणी की। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार 100 प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रयासरत है और जल्द ही इस लक्ष्य को भी प्राप्त कर लिया जाएगा। कोरोना टीके का स्वास्थ्य पर असर पड़ने के सवाल के जवाब में मंडाविया ने कहा कि कई परीक्षणों, अध्ययनों और ट्रायल के बाद ही टीकों को मंजूरी मिलती है। बिना तथ्य के टीके को लेकर कुछ भी न कहा जाए। क्योंकि इससे लोगों में बेवजह टीके को लेकर झिझक पैदा होगी। 
मनसुख मंडाविया ने कहा कि ओमिक्रॉन को लेकर देश के वैज्ञानिक व विशेषज्ञ अध्ययन कर रहे हैं। सभी तथ्य सामने आने के बाद इसको लेकर भी कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना लगातार अपना स्वरूप बदलता रहता है। जीनोम अनुक्रमण के लिए देश में 36 प्रयोगशालाएं हैं। 

देश में आज ओमिक्रॉन के दो और नए मामले सामने आए हैं। जामनगर के दो लोग ओमिक्रॉन संक्रमित पाए गए हैं। ओमिक्रॉन से संक्रमित मिला 72 वर्षीय शख्स 28 नवंबर को जिम्बाब्वे से जामनगर आया था।अब इसी मरीज के संपर्क में आई पत्नी और साला भी ओमिक्रॉन से संक्रमित हो गए हैं।
इसके साथ ही राजस्थान में ओमिक्रॉन संक्रमित हुए शख्स के संपर्क में आई महिला दिल्ली में कोरोना संक्रमित पाई गई है। उसे लोक नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं, ब्रिटेन से फ्लाइट के जरिए गोवा एयरपोर्ट पहुंचे तीन पैसेंजर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से एक भारतीय मूल का ब्रिटिश नागरिक है।

राजस्थान के जयपुर में ओमिक्रॉन संक्रमित सभी 9 मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। गुरुवार को उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई। राज्य स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, सभी 9 लोग पूरी तरह स्वस्थ और बिना लक्षणों के हैं। उनके खून, CT स्कैन और अन्य टेस्ट नॉर्मल आए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें 7 दिन क्वारैंटाइन में रहने को कहा गया है।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने बताया कि राज्य में काेराेना के मैनेजमेंट के लिए छात्रों के होस्टल और कोरोना क्लस्टर्स के लिए अलग-अलग गाइडलाइन्स जारी की जाएंगी। उन्होंने बताया कि एक्सपर्ट कमेटी के साथ बैठक करने के बाद कोरोना की मौजूदा स्थिति के बारे में जानकारी जुटा ली गई है। मौजूदा पॉजिटीविटी रेट को देखते हुए घबराने की कोई जरूरत नहीं, बल्कि सतर्कता बरतने की जरूरत है।

Back to top button