प्राथमिक विद्यालय के कार्यप्रणाली पर उठता एक सवालिया निशान।

DAY NIGHT NEWS LUCKNOW

REPORT BY – SANJAY KUMAR YADAV

प्राइमरी स्कूल के दफ्तर में चल रहा है बच्चों का किचन और प्रस्तावित किचन , रो रहा है अपनी बदहाली के आंसू, प्राथमिक विद्यालय के कार्यप्रणाली पर उठता एक सवालिया निशान। जी हां आपने सही सुना जनपद गोरखपुर के सहजनवा तहसील अंतर्गत सहजनवा ब्लाक के उज्जी खोर प्राथमिक विद्यालय का पूरा मामला है जहां पर विगत पिछले कई महीनों से प्राथमिक विद्यालय के कार्यालय को बच्चों के लिए बनने वाला ”मिड डे मील ” का किचन बना दिया गया है जिससे विद्यालय में शिक्षा प्राप्त कर रहे नौनिहालों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है जिससे छात्र और छात्राओं के पठन-पाठन पर भी काफी प्रभाव देखा जा रहा है और तो और स्कूल के ठीक सामने बहुत ज्यादा मात्रा में पशुओं का गोबर जमा किया गया है जिससे स्कूल में पढ़ रहे बच्चों को स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहने की जरूरत है मामले का संज्ञान होते ही जब मीडिया कर्मी स्कूल पर निरीक्षण करने पहुंचे और प्रधान प्रतिनिधि से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि हमारे जानकारी में नहीं है कि कब से किचन चल रहा है और कहां किचन बना हुआ है स्कूल के प्रधानाध्यापक से जब बात की गई तो उन्होंने बताया की स्कूल का किचन काफी पुराना होने की वजह से जर्जर अवस्था में है और खाना बनाते समय उसमें कई बार सांप और बिच्छू निकल जाते हैं जिसकी वजह से किचन हमें शिफ्ट करके स्कूल के दफ्तर में बनाना पड़ा सरकार भले ही लाख दावे करती हो लेकिन विकास के वह पंख धरातल तक नहीं पहुंच पाते जिसे आसानी से कागजों में श्याही और कलम से दर्जा कर दिया जाता है यह हमें और आपको और अपने आप से सवाल है कि क्या प्राथमिक विद्यालय के दफ्तर में किचन चलाना उचित है अगर ग्राम के विकास के लिए सरकारी धन आता है तो पहले मूलभूत सुविधाओं का विकास होना चाहिए जिसमें शिक्षा व्यवस्था सर्वोपरि है इसके लिए तत्काल देखने सुनने और जाने की जरूरत है जनपद के उच्च अधिकारी मामले को संज्ञान में लें ग्राम सभा उदयपुर में प्राथमिक विद्यालय में बना किचन तत्काल मरम्मत हो कार्यालय को खाली किया जाए जिससे विद्यालय में पठन-पाठन की व्यवस्था सुचारू रूप से चल सके।

Back to top button