CDO Lucknow: एक सप्ताह चलेगा स्ट्रीट चिल्ड्रेन रेस्क्यू अभियान

DAY NIGHT NEWS LUCKNOW

”विश्व बाल अधिकार सप्ताह” के अंतर्गत मुख्य विकास अधिकारी महोदय,लखनऊ के निर्देशानुसार जनपद लखनऊ के विभिन्न चौराहों पर मॉल,सिनेमाघरों,रेलवे स्टेशन, पूजा स्थलों व अन्य सार्वजनिक स्थलों पर सुनयोजित तरीके से बालक / बालिकाओं से कराये जा रहे भिक्षावृत्ति / करतब दिखाकर आमदनी प्राप्त करने संबंधी कार्य करवायें जाने के उन्मूलन हेतु उचित देख -रेख व संरक्षण प्रदान करने के उददेश्य से एक सप्ताह तक सघन अभियान चलाकर स्ट्रीट चिल्ड्रेन रेस्क्यू किया जाना है।

स्ट्रीट चिल्ड्रेन रेस्क्यू के अभियान में आज दिनाँक 16 /11 / 2021 को वन स्टॉप सेंटर / चाइल्ड लाइन, लखनऊ की सयुंक्त टीम द्वारा सघन अभियान चलाकर अवध चौराहा आलमबाग , मानक नगर एवं अहिमामऊ से 13 बच्चो का रेस्क्यू किया गया जो चौराहों पर भिक्षावृत्ति कर रहे थे। सभी बच्चो की आयु 12 वर्ष से काम है।  उक्त बच्चों का रेस्क्यू कर वन स्टॉप सेंटर, लखनऊ की टीम द्वारा काउंसलिंग की गयी तथा डॉ0  श्यामा प्रसाद मुखर्जी ( सिविल हॉस्पिटल )चिकित्सालय,लखनऊ में कोविड -19 का परिक्षण कराया गया। सभी बच्चे कोविड निगेटिव पाए गए। नियमानुसार सभी बच्चो को अग्रिम कार्यवाही हेतु मा0  न्यायालय बालकल्याण समिति , लखनऊ के समक्ष प्रस्तुत किया गया तथा बच्चो को 05 दिवस वन स्टॉप सेंटर , लखनऊ में रखकर उनको मन फाउंडेशन के द्वारा विशेष पाठशाला कार्यक्रम से जोड़ा जायेगा , बच्चो को कॉपी – किताब व स्टेशनरी उपलब्ध कराकर उनके मन में पढाई के प्रति जिज्ञासा जागृत की जाएगी तथा वन स्टॉप सेंटर टीम द्वारा उनके परिवारों की पूरी काऊंसलिंग की जाएगी कि ये बच्चे शिक्षा की मुख्यधारा से जुड़ सकें तथा भविष्य में इनका पूरा फॉलोअप किया जायेगा।

रेस्क्यू टीम में वन स्टॉप सेंटर से श्री मती अर्चना सिंह , सेंटर मैनेजर / श्री मती शशि त्रिपाठी , उप निरक्षक ,महिला पुलिस रिपोर्टिंग चौकी कृष्णानगर , महिला आरक्षी श्री मती रेखा यादव व श्री मती नीलम सिंह , वन स्टॉप सेंटर से सुगमकर्ता सुश्री अंजुलिका एवं श्री मती सुमित्रा तथा चाइल्ड लाइन की टीम से श्री विजय पाठक व श्री बृजेंद्र मौजूद रहे।

विशेष – ”विश्व बाल अधिकार सप्ताह” के साथ भिक्षावृत्ति से जुड़े रेस्क्यू किये गये बच्चो की विशेष पाठशाला कार्यक्रम वन स्टॉप सेंटर , लखनऊ में मन फाउंडेशन द्वारा चलाया जायेगा , जिससे बच्चो को समझ की मुख्या धारा से जोड़ा जा सके।
                                          

Back to top button