जीका वायरस ने बढ़ाई स्वस्थ विभाग की मुश्किलें !

DAY NIGHT NEWS LUCKNOW

 

आज पूरे देश में जारी कोरोना और डेंगू के प्रकोप के बीच कुछ ने रिपोर्टस में जीका वायरस के बढ़ते मामलों ने स्वास्थ्य विभाग की मुश्किलें और भी बढ़ा दी हैं। कानपुर में अब तक करीब 10 लोगों में जीका वायरस पाया गया है। जीका के बढ़ते केस के बीच स्वास्थ्य विभाग को अलर्ट पर रखा गया है। एडीज मच्छरों के काटने के कारण होने वाली इस बीमारी को स्वास्थ्य विशेषज्ञ बेहद खतरनाक और जानलेवा बता रहे हैं। मौजूदा समय में जीका वायरस का कोई भी विशिष्ट उपचार अभी उपलब्ध नहीं है।

जीका वायरस क्या है और इसके लक्षण
एक अस्पताल में वरिष्ठ डॉक्टर मृत्युंजय पाठक बताते हैं, जीका वायरस एक मच्छर जनित खतरनाक बीमारी है। जो कि एडीज मच्छर के काटने से फैलती है। मच्छरों की यही प्रजाति डेंगू और चिकनगुनिया का भी कारण है।
जीका वायरस के शिकार लोगों में अक्सर लक्षण नजर नहीं आते हैं, या फिर इसके लक्षण बहुत हल्के हो सकते हैं। रोगियों में बुखार, चकत्ते, जोड़ों, और आंखों के पीछे दर्द, उल्टी जैसी दिक्कत हो सकती है।

ये सारे लक्षण आमतौर पर डेंगू में भी पाए जाते हैं, यही कारण है कि लोगों के लिए इन दोनों में अंतर कर पाना बहुत ही कठिन हो जाता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि गर्भवती महिलाओं में जीका वायरस गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकती है, इससे भ्रूण को भी नुकसान पहुंच सकता है। 
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक कोरोना और डेंगू के बढ़ते मामलों के बीच जीका वायरस के भी बढ़ते हुए केस ने समस्याओं को बढ़ा दिया है। मरीजों के लिए इन तीनों रोगों में अन्तर कर पाना बहुत कठिन हो रहा है, ऐसे में रोग का समय पर उपचार न हो पाने के कारण स्थिति बिगड़ने का डर रहता है। चूंकि डेंगू और जीका दोनों ही मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियां है, ऐसे में इस समय सभी लोगों को मच्छरों से बचाव के हर संभव उपाय अपनाये ।

आइये जाने कैसे फैलता है जीका वायरस?
डॉक्टर मृत्युंजय बताते हैं, संक्रमित मच्छरों के काटने के अलावा जिन इलाकों में जीका वायरस का प्रकोप हो ,वहां की यात्रा करने से संक्रमण का खतरा हो सकता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति से शारीरिक संबंध बनाने या फिर रक्त के आदान-प्रदान से भी यह संक्रमण हो सकता है। जीका के लक्षण फ्लू से मिलते-जुलते हैं और ज्यादातर लोगों में ये इतने हल्के होते हैं कि उन पर किसी का ध्यान नहीं जाता। जीका के गंभीर संक्रमण के कारण मस्तिष्क और आंखों को गंभीर क्षति हो सकती है।

जीका वायरस का इलाज और बचाव
डॉक्टरों के मुताबिक मौजूदा समय में जीका वायरस का कोई इलाज नहीं है। जिन लोगों में इसका निदान किया जाता है उन्हें आराम करने, अधिक मात्रा में तरल पदार्थों के सेवन के साथ लक्षणों को कम करने वाली दवाइयां दी जाती है। जीका वायरस से बचाव के लिए फिलहाल कोई टीका भी उपलब्ध नहीं है। संचरण से सुरक्षित रहने के लिए मच्छरों से बचाव करना आवश्यक होता है। उन स्थानों पर जाने से बचें जहां जीका वायरस का प्रकोप हो। 

Back to top button