जनपद संत कबीर नगर स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने सीडीपीओ नाथनगर एवं अन्य जिम्मेदारो पर सत्ता संरक्षण प्राप्त आकाओं के सह पर भेद भाव करने का लगाया गंभीर आरोप – समाजसेवी अनिल कुमार प्रजापति

डे नाइट न्यूज ब्यूरो चीफ संजय कुमार यादव की रिपोर्ट

जनपद संत कबीर नगर दिनांक 14/10/2021

Day Night News

Netional News Network

Sant Kabir Nagar

संत कबीर नगर – विकास खंड नाथनगर के सीडीपीओ,एडीओ आईएसबी एवं बी एम एम आदि पर स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने सत्ता संरक्षण प्राप्त षड़यंत्रकारियों के इशारे पर सरकार द्वारा जनहित में संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर राजनैतिक प्रतिस्पर्धा युक्त भेदभाव करने का गंभीर आरोप लगाया है। स्वयं सहायता समूहों की अध्यक्ष श्रीमती माया देवी एवं पूजा प्रजापति आदि ने बताया कि हम लोग स्वप्रयास से रोजगार श्रृजन के क्षेत्र में कार्य करते हुए एन आर एल एम् के तहत हौजरी सिलाई एवं पशुपालन में लगभग सैकड़ों महिलाओं से उपर को वर्तमान में रोजगार उपलब्ध कराएं है और इसे विस्तृत रूप देने के लिए पर्याप्त साधन संसाधन एवं कार्यशील पूंजी हेतु बार बार प्रार्थना पत्र ब्लाक व जिले के जिम्मेदारों को दिया जा रहा है किन्तु सिस्टम में व्याप्त भ्रष्ट कार्यप्रणाली के चलते उक्त प्रार्थना पत्र शायद रद्दी के टोकरी में डाल दिए जाते हो वगैर न्यायसंगत निस्तारण के। भ्रष्टाचार का आलम यह है कि अभी हाल में नये समूह का कागजी कोरम पूरा कर पुराने समूहों को इग्नोर करते हुए सामूदायिक शौचालय का आवंटन जगह जगह कर दिया गया है जिसमें उच्चाधिकारियों के दखल से सुधार की प्रक्रिया अभी प्रासेस में है कि ड्राई राशन वितरण को लेकर गांव गांव राजनैतिक चाणक्य अपनी अपनी विरासत बचाने हेतु एक्टीव हो गये है कमोवेश यह स्थिति हर जगह है फिर भी बात यदि ग्राम पंचायत महोबरा की करें तो बड़े मुश्किलन पीछले माह में दिप्ती दुग्ध विकास स्वयं सहायता समूह भाग एक एवं दो को दो अलग अलग सेंटरों के राशन वितरण का जिम्मा सौंपा गया जिसके वितरण हेतु संबंधित आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों का टाल मटोल और गव ई मठाधीशों के दुर्भाव युक्त धारणा को देख सार्वजनिक रूप से परियोजना निदेशक/उपायुक्त एन आर एल एम् श्री डी डी शुक्ला एवं खंड विकास अधिकारी श्री विजय कुमार पाण्डेय के मार्गदर्शन में उद्घाटन समारोह के दौरान राशन वितरण की सूचना लाभार्थियों में प्रसारित कराई गई और लिखित रूप से आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों समेत सीडीपीओ नाथनगर को भी आमंत्रित किया गया कि सरकार के गाइडलाइन के अनुरूप मौके पर आकर राशन वितरण कराएं किन्तु स्वयं सहायता समूहों के प्रति बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की गलत मंशा सामने आई वो लोग मौके पर नहीं पहुंचे और जब राशन सार्वजनिक रूप से बंट गया तो खिसियाए सत्ता संरक्षण प्राप्त षड़यंत्रकारियों के सह पर वगैर कोई सूचना दिए साजिश युक्त जांच रिपोर्ट के आधार पर सीडीपीओ एडीओ आईएसबी एवं बी एम एम आदि के मिली भगत से ड्राई राशन वितरण का जिम्मा फिर उसी नवगठित समूह को दिया जा रहा है जिसके शौचालय आवंटन की शिकायत अभी भी लंबित है। मतलब साफ़ शब्दों में यदि कहा जाए तो पता नहीं क्यों स्वयं सहायता समूहों के प्रचलन में आने से गव ई मठाधीशों, प्रधान व बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों को काफी परेशानी महसूस हो रही है, कारण चाहे जो भी हो किन्तु समय रहते यदि इस ज्वलंत प्रकरण का न्यायसंगत निस्तारण नहीं हुआ तो बात आगे बढ़नी तय है फिलहाल इसकी लिखित शिकायत उच्चाधिकारियों से की जा चुकी है जिसपर शासन प्रशासन और सरकार को न्यायसंगत रुख अपनाने की अपील की जाती है अन्यथा आज की जागरूक जनता इतना जान चुकी है कि सरकार और उनके लोकल जनप्रतिनिधियों के इशारे पर ही शासन प्रशासन काम करता है चाहे किसी की भी सरकार हो।

Back to top button