दरोगा साहब बर्थडे पार्टी के जश्न में डूबे उधर बदमाशों ने मौके का भरपूर उठाया फायदा

DAY NIGHT NEWS

ASHISH KUMAR (Bureau Chief)

सीतापुर

इमलिया सुल्तानपुर पुलिस थाने के चर्चित दरोगा की बर्थडे पार्टी के जश्न में डूबी हुई थी। दूसरी तरफ बदमाश रोड होल्डप की घटना को अंजाम दे रहे थे। इस वारदात से अंजान गश्त पर तैनात दरोगा थाने में अपने बर्थडे का जश्न मनाने में व्यस्त थे। रोड होल्डप की वारदात की सूचना मिलते ही थाने में हड़कंप मच गया और इलाके में दहशत फैल गयी। आनन फानन में पुलिस ने सर्विलांस का सहारा लेकर दोनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। लेकिन “कोढ़ में खाज” उस समय फैल गया। जब गिरफ्तार किया गया एक बदमाश दीवान की लापरवाही से पुलिस हिरासत से थाने फरार हो गया। लेकिन इतना ही नही बची खुची कसर दीवान ने और पूरी कर दी। पहरे पर तैनात अपने चहेते पुलिस कर्मियों को बचाने के लिए आनन फानन में समय से पहले ही तीन महिला पुलिसकर्मियों की पहरे पर ड्यूटी लगा दी। इन सभी एक बाद एक घटना क्रम से पुलिस की क्षेत्र में अच्छी खासी किरकिरी हो रही है। हालांकि पुलिस ने फरार अभियुक्त की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित कर दी है। जानकारी के अनुसार थाना इमलिया सुल्तानपुर पुलिस रोडहोल्डप के मामले में पूछताछ करने के लिये दो अभियुक्तों को लायी थी। जिसमें सुबह पहरा में हीलाहवाली देखकर एक वाहिद नाम का अभियुक्त पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया। फरार होने की सूचना पूरे क्षेत्र में फैल गयी। पुलिस अभियुक्त की तलाश के लिये टीम बनाकर ढूंढ रही है। बताते चले बीते बुधवार की शाम थाना परिसर में एसआई दीनानाथ यादव की जन्मदिन की पार्टी का जश्न गश्त पर जाने के दौरान चल रहा था। ठीक उसी समय शेरपुर के पास पेट्रोल पम्प के सामने सीतापुर से बसेती साइकिल से जा रहे दो युवकों अनस पुत्र अल्ताफ़ व जुनैद को दो मोटरसाइकिल सवार लुटेरों ने रोककर मारा व मोबाइल लूटकर फरार हो गये। दोनो युवकों ने थाने जाकर आपबीती सुनाई व इस घटना की सूचना दी। मगर त्वरित कार्यवाही न हुयी तो युवकों ने अपने चाचा को बताया जो कि वकालत करते हैं। तब पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुये व मोबाइल लोकेशन ट्रेस करते हुये बीती रात थाना नीमगॉंव क्षेत्र से वाहिद व आकिल को मोबाइल समेत पकड़ कर थाने लायी। जहॉं दोनो से पूछताछ की गयी। सुबह पहरा पर मौजूद सिपाही व दीवान की हीलाहवाली का फायदा उठाकर वाहिद मौके से फरार हो गया। फरारी की सूचना मिलते ही पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। थानाध्यक्ष अवधेश कुमार यादव ने टीम बनाकर अभियुक्त को पकड़ने के लिये भेज दिया। दीवान ज्ञानेन्द्र कुमार ने पहरा पर मौजूद अपने चहेते सिपाहियों को बचाने के लिये 12 घंटे बाद ही पहरा पर अन्य आरक्षियों के नाम ड्यूटी पर दर्ज कर दिए। दीवान ज्ञानेंद्र कुमार ने बताया कि पहरा का कार्य निगरानी करना है और तीन आरक्षियों व एसआई को चौबीस घंटे क्रमानुसार पहरा देना होता है। जब इस मामले और 12 घंटे में ड्यूटी बदलने की जानकारी लेनी चाही तो मोबाइल को स्विच ऑफ कर दिया। थानाध्यक्ष अवधेश कुमार यादव ने बताया कि प्रार्थना पत्र मिलते ही कार्यवाही की गयी है। मोबाइल लोकेशन के हिसाब से दो लोगों को मोबाइल समेत पकड़ा गया था। दीवान के द्वारा इनको अभिरक्षा में रखा गया था। सुबह इनमें से एक अभियुक्त मौका पाकर अभिरक्षा से फरार हो गया है। तलाश के लिये टीम लगा दी गयीं हैं। जल्द ही पकड़ लिया जायेगा।

Back to top button