गाजीपुर:संविदा लाइनमैनो को 4 माह से नहीं मिला वेतन,डीएम से मिला प्रतिनिधिमंडल

गाजीपुर।विद्युत मजदूर पंचायत का एक प्रतिनिधिमंडल जिला अध्यक्ष अरविंद कुशवाहा के नेतृत्व में जिलाधिकारी के यहां पत्रक सौपा जिला अध्यक्ष ने बताया कि जनपद में विद्युत उपकेंद्रों पर मैनपॉवर सप्लाई का कार्य मेसर्स भारत इंटरप्राइजेज नाम की फॉर्म करती है जनपद में सभी संविदा लाईनमैनों का फार्म द्वारा फरवरी से अब तक 4 माह का भुगतान रोक दिया गया है जिला अध्यक्ष ने कहा कि इस तपती गर्मी के मौसम में जहां की टेंपरेचर 47 डिग्री तक पहुंच जा रहा है आम जनमानस अपने घरों से बाहर निकलना बंद कर दिया है हीट वेव का सरकार ने अलर्ट जारी कर दिया है इस परिस्थिति में भी हमारे लाइनमैन लोहे के पोल पर चढ़कर जनता को निर्बाध आपूर्ति देने के लिए कार्य कर रहे हैं फिर भी इनका वेतन 4 महीने से रोक कर रखा गया है इसमें निश्चित तौर पर अधिकारियों और ठेकेदार की मिली भगत प्रतीत होती है इस संबंध में हम लोगों ने जिला अधिकारी महोदय को पत्र के माध्यम से आज अवगत कराने का काम किया है और हम सभी को पूरी उम्मीद है कि यहां आने के बाद इन मजदूरों को निश्चित तौर पर न्याय मिलेगा वहीं जिला मंत्री में शंकर राय ने बताया कि जनपद में डोर टू डोर बिलिंग का कार्य स्टर्लिंग नामक फॉर्म लड़कों को रखकर कराती है फर्म को जनपद में कार्य करते हुए लगभग 30 महीने हो गए और प्रत्येक मीटर रीडर के खाते से कंपनी के द्वारा ई पी एफ के नाम पर 1100 रू के लगभग कटौती होती है इस तरह से अगर आंकड़ा देखा जाए तो लगभग प्रत्येक मीटर रीडर के खाते में पैसा लगभग 33000 से 34000 शो करना चाहिए लेकिन बड़े मजे की बात यह है कि प्रत्येक मीटर रीडर के खाते में सिर्फ और सिर्फ 3000 से लेकर ₹3500 तक ही शो कर रहा है जो एक बहुत बड़े पैमाने पर घोटाले की तरफ इंगित करता है इसकी भी जांच आवश्यक है जिला अध्यक्ष ने बताया कि अगर एक सप्ताह के अंदर मांगे पूरी नहीं होती है तो संगठन विवश होकर कार्य बहिष्कार ,हड़ताल ,धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होगा पत्रक सौपने वालों में मुख्य रूप से विनय तिवारी, प्रमोद यादव, गिरधर ,योगेश और शहर के लगभग सभी संविदा लाइनमैन उपस्थित रहे।

Back to top button