स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव 19 नवंबर से 16 दिसंबर तक

गाज़ीपुर।स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव भारत के 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र होने के बाद 75 वर्ष पूर्ण होने की अवधि में मनाया जा रहा है।यह अमृत महोत्सव भारत के क्रांतिकारियों को स्मरण करने और उनसे प्रेरणा लेने का महोत्सव है।नए विचार और संकल्प के साथ सशक्त और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए आगे बढ़ने के लिए स्वाधीनता के लिए बलिदान हुए स्वतंत्रता सेनानियों से व्यक्ति,समाज और देश को समर्थ और स्वावलंबी जीवन हेतु स्वच्छ चरित्र,श्रम, ज्ञान, शोध, वैभव, स्वाभिमान, पहचान और गौरव का दिशा प्राप्त करने का उत्सव है।क्रांतिकारियों ने देश को सबसे ऊपर रखा और अपने जीवन को देश की स्वाधीनता के लिए अर्पित कर दिया,यह उत्सव उस अर्पण से उत्पन्न स्वतंत्रता के अमृत का महोत्सव है।भारत भूमि पर जन्म लिए सेनानी और क्रांतिकारी भारत के अस्तित्व को अमृत प्रदान करते हैं और इसे नई दिशा देते हुए परम वैभवशाली दशा की ओर अग्रसर करने की सोच और शक्ति प्रदान करते हैं।भारत के वीर और बलिदानी सैनिकों ने हमेशा इसकी रक्षा किया है और इस भूमि को अपना जीवन देकर सुरक्षा और गौरव प्रदान किया है।यह अमृत महोत्सव उनकी वीरता और त्याग से प्राप्त विजय की स्मृति, वंदन और गौरव के उत्सव के रूप में पूरे समाज का महोत्सव है।इसे 19 नवम्बर 2021 से 16 दिसंबर 2021 तक मनाया जाना है।

अपना देश और अपना जनपद गाज़ीपुर पूरे देश और गाज़ीपुर के अज्ञात और ज्ञात स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों और बलिदानियों को याद करेगा और उनके प्रति अपना सम्मान और कृतज्ञता प्रकट करेगा।अपना समाज तिलका माँझी,सिद्धू और कान्हू, बिरसा मुंडा, झांसी की रानी लक्ष्मी बाई, खुदीराम बोस,नेताजी सुभाषचंद्र बोस, शचींद्रनाथ सान्याल,अरविंद घोष, वीर दामोदर सावरकर,भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, वारीन्द्र घोष,केशव बलिराम हेडगेवार, चितरंजन दास, जवाहरलाल नेहरू, स्वामी विवेकानंद, स्वामी सहजानंद, बाल गंगाधर तिलक,महात्मा गाँधी, राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभभाई पटेल, विपिनचन्द्र पाल, रामप्रसाद बिस्मिल, ठाकुर रोशन सिंह, राजेन्द्र नाथ लाहिड़ी,मन्मथनाथ गुप्त,अशफ़ाक़ उल्ला खाँ, बटुकेश्वर दत्त, सुखदेव, दुर्गा भाभी और सन्यासी विद्रोह से लेकर अन्य विद्रोहों के नायकों और सहभागियों को स्मरण करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि देगा और उनका वंदन करते हुए आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की प्रेरणा प्राप्त करेगा।

वीरों और सन्यासियों के देश भारत में गाज़ीपुर जनपद विशेष स्थान रखता है।स्वतंत्रता संग्राम में भारत माँ की स्वतंत्रता के लिए बलिदानी अष्टशहीद शिवपूजन राय, वंश नारायण राय, वंश नारायण राय द्वितीय, वशिष्ठ नारायण राय, ऋषिकेश राय, राजा राय, नारायण राय और रामबदन उपाध्याय के प्रति पूरा राष्ट्र नतमस्तक और कृतज्ञ है।शहीद अलगू यादव, हीरा कुशवाहा, गीतल पाण्डेय,डमरू सेठ, हरिवंश दुबे, रामतुल्लाह नाई जैसे अनेक वीर स्वतंत्रता सेनानियों की स्मृति और सम्मान में हम इस अमृत महोत्सव को मना रहे हैं और अपने पूर्वजों के त्याग और साहस पर गर्व अनुभव कर रहे हैं।स्वतंत्रता के पश्चात भारत की रक्षा हेतु गाज़ीपुर जनपद के वीर सैनिकों ने बड़ी संख्या में अपना जीवन अर्पित किया, इस अमृत महोत्सव के माध्यम से पूरा समाज उन्हें याद और नमन कर रहा है। इस भारत राष्ट्र के जीवन में प्राचीन काल से ही न्याय, समानता, स्वाभिमान और स्वतंत्रता के लिए वीरता,त्याग और बलिदान की परंपरा रही है, जो हमारे राष्ट्रीय और सामाजिक जीवन में अमृत है, हम सभी उसी अमृत का उत्सव आयोजित कर रहे हैं।

स्वराष्ट्र प्रेम, स्वाधीनता, स्वाभिमान,पराक्रम और त्याग की प्रतीक रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिन 19 नवम्बर से आरंभ होकर विजय दिवस 16 दिसंबर तक अमृत महोत्सव का आयोजन होगा।इस वर्ष 23 जनवरी को नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125वीं जयंती मनाई गई है, अमृत महोत्सव इन महानायक के जयंती का उत्सव होगा और इनके साथ अन्य ज्ञात और अज्ञात सभी क्रांतिवीरों को याद करते हुए श्रद्धासुमन अर्पित किया जाएगा। 19 नवम्बर 2021 को उद्घाटन कार्यक्रम और 16 दिसंबर को समापन कार्यक्रम के मध्य जनजागरण कार्यक्रम के रूप में तिरंगा यात्रा, भारत माता की झाँकी, भारत माता की आरती होना निश्चित किया गया है।पूरे देश और जनपद गाज़ीपुर के स्वतंत्रता सेनानियों और स्वतंत्रता के पश्चात देश की रक्षा में सैनिकों की देशभक्ति, पराक्रम,त्याग और बलिदान को नमन करने और राष्ट्र के जीवन में धारण करने हेतु स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव गाज़ीपुर जनपद के समस्त खंडों और नगर क्षेत्रों में मनाया जा रहा है।
19 नवम्बर 2021 को अमृत महोत्सव के उद्घाटन और कार्यक्रम के आयोजन के स्थान और समय का विवरण निम्न है-

गाजीपुर जनपद में कुल 18 स्थान पर उदघाटन कार्यक्रम का विवरण निम्नवत है।
1.सदर खण्ड-
स्थान -प्रा.वि.चौकिया
समय-12 बजे
2.बिरनो खण्ड
स्थान-जंगीपुर
समय -11 बजे
3.मरदह
स्थान-आजीवम स्कुल बाई पास मरदह
समय-11बजे
4.कासिमाबाद खण्ड
स्थान-ब्लाक सभागार
समय- 11 बजे
5.बाराचवर खण्ड
स्थान-लठूडीह
समय-11 बजे
6.मौह्मदाबाद खण्ड
स्थान-शहीद पार्क
समय-2बजे
7.भावरकौल खण्ड
प्रा.वि सुखडेहरा
समय-11 बजे
8.रेवतीपुर खण्ड
स्थान रामलीला मैदान रेवतीपुर
समय- 2बजे
9.भदौरा खण्ड
स्थान- गहमर
समय-12 बजे
10 .जमानिया खण्ड
स्थान-बलुआघाट जमानिया
स्थान-12 बजे
11.गाजीपुर खण्ड
स्थान.लंका मैदान
समय-11:30 बजे

12.सैदपुर खण्ड
स्थान-जे.बी इण्टरनेशनल कालेज
डहरा सैदपुर
समय-11:30 बजे
13.सादात खण्ड
स्थान-माँ आशीर्वाद पैलेस
समय-12 बजे
14.जखनिया खण्ड
स्थान- शिव मन्दिर जखनिया
समय- 12 बजे
15.मनिहारी खण्ड
स्थान-महर्षि शिक्षण मनिहारी
समय-1बजे
16.देवकली खण्ड
स्थान-बरम बाबा मन्दिर
समय-12 बजे
17.करण्डा खण्ड
स्थान-मौनी बाबा आश्रम चोचकपुर
समय-12 बजे
18.सैदपुर नगर
स्थान-धर्मशाला शिशु मन्दिर पक्काघाट सैदपुर

समय-12 बजे

दिनाँक :18 नवम्बर 2021
मीडिया संयोजक-अमृत महोत्सव आयोजन समिति,जनपद गाज़ीपुर
डॉ. एस. डी. सिंह परिहार
एसोसिएट प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष
अध्यापक शिक्षा विभाग
स्नातकोत्तर महाविद्यालय, गाज़ीपुर।

Back to top button