…याद किये गए आजादी के महानायक।

बिरनो गाज़ीपुर:आजादी के बाद देश के सामने सबसे बड़ी चुनौती विभिन्न रियासतों को एक बनाए रखना था और सरदार वल्लभभाई पटेल इस कठिनाई कार्य को कुशलतापूर्वक संपन्न करवाया एक लौह पुरुष के रूप में दुनिया के सामने आए उनकी एकता की यही मिसाल कायम रखने के लिए 31 अक्टूबर को जयंती मनाई जाती है।
रविवार को पूर्व ग्राम प्रधान पखंडी पटेल और विनोद पटेल के नेतृत्व में सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती पर एकता पदयात्रा निकाला गया।यात्रा भड्सर चौराहे से निकलकर बिरनो शहीद कमलेश सिंह की मूर्ति के यहाँ जाकर समाप्त हुई।
कारगिल शहीद कमलेश सिंह के मूर्ति पर माल्यार्पण कर तत्पश्चात प्राथमिक विद्यालय भड़सर के परिसर में सभा के रूप में परिवर्तित होकर संपन्न हुआ इस अवसर पर मुख्य वक्ता पूर्व ग्राम प्रधान पाखंडी पटेल ने कहा देश की आजादी के संघर्ष में जिस तरह पटेल ने योगदान दिया उससे ज्यादा योगदान उन्होंने स्वतंत्र भारत को एक करने मे दीया पटेल राष्ट्र एकता के बेजोड़ शिल्पी एव नए भारत के निर्माण के देश के विकास में सरदार वल्लभभाई पटेल को सदैव याद किया जाएगा इस अवसर पर अनिल पटेल, मारू पटेल, नंदू पटेल, अरविंद पटेल, संजीव ,राजेश, सुरेंद्र ,अनिल आदि सैकड़ों लोग ग्रामीण उपस्थित रहे ।कार्यक्रम की अध्यक्षता अनिल पटेल एवं संचालन विनोद पटेल पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य ने किया।
लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती पर थानो में भी कार्यक्रम आयोजित किये गए।मरदह थाना परिसर में थानाध्यक्ष राजकुमार यादव ने समस्त पुलिसकर्मियों को जयंती के अवसर पर शपथ दिलाई।कहाँ हमलोगों को इन जैसे महापुरुषों से प्रेणा लेनी चाहिए, अपने कर्तब्यों का पूरी ईमानदारी और मेहनत से निर्वहन करना चाहिए।

Back to top button